महान छठ व्रत का पहला अर्घ्य आज : पानी के बीच आधे खड़े रहकर डूबते हुए सूर्य की आराधना करेंगे व्रर्ती

महान छठ व्रत का पहला अर्घ्य आज : पानी के बीच आधे खड़े रहकर डूबते हुए सूर्य की आराधना करेंगे व्रर्ती

PATNA : बिहारी जनमानस के सबसे बड़े पर्व छठ का सबसे अहम पड़ाव है। आज व्रती पटना सहित तमाम शहरों में गंगा और अन्‍य नदियों के साथ ही तमाम जलाशयों के किनारे और अपने घरों पर भी अस्‍ताचलगामी सूर्य को अर्घ्‍य देंगे। 

चार दिवसीय छठ पर्व की शुरुआत कार्तिक मास (Kartik Month) के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से हो चुकी है. 8 नवंबर से इस पर्व की शुरुआत हो चुकी है. और 10 नवंबर के दिन यानी बुधवार को छठ पर्व (Chhath Parv 2021) का मुख्य दिन है. इस दिन व्रती महिलाएं डूबते हुए सूरज को अर्घ्य देती हैं. और 11 नवंबर के दिन सुर्योदय के समय उगते हुए सूरज को अर्घ्य दिया जाएगा. छठ के मुख्य पर्व पर चारों ओर लोग आस्था में डूबे हुए दिखाई देते हैं. चार दिनों तक चलने वाले छठ पर्व में षष्ठी तिथि का दिन सबसे महत्वपूर्ण होता है. 

इससे पहले छठ पूजा के दूसरे दिन छठ व्रतियों ने पूरे दिन उपवास पर रहकर मिट्टी के चूल्हे और आम की लकड़ी पर खरना का प्रसाद बनाया। शाम 5:45 से 6:25 बजे के बीच छठी मैया को प्रसाद के रूप में तैयार गुड़ से बनी खीर, रोटी और केला का भोग लगाकर पूजा-अर्चना की। इसके बाद प्रसाद ग्रहण किया। इसके साथ ही 36 घंटे का निर्जला उपवास शुरू हो गया। 

पटना में घाटों की सफाई का काम पूरा

लोक आस्था के महापर्व छठ पर पूरा बिहार आस्था के रंग में सराबोर है। हर तरफ छठी मइया के गीत गुंजायमान हो रहे हैं। पटना की सभी सड़कें और गलियां सज गई हैं। वहीं सभी प्रमुख घाटों की सफाई का काम पूरा उन्हें चकाचक कर दिया गया है। साथ ही व्रत के दौरान किसी प्रकार के हादसे को रोकने के लिए एनडीआरएफ की टीम भी लगाई गई है।  हो गए हैं।


Find Us on Facebook

Trending News