दोस्त को उसकी साली को भगाने में सहायता करना पड़ गया महंगा, युवती के पिता ने हत्या कर नदी में फिंकवा दी लाश

दोस्त को उसकी साली को भगाने में सहायता करना पड़ गया महंगा, युवती के पिता ने हत्या कर नदी में फिंकवा दी लाश

NAGACHHIYA :- नवगछिया पुलिस जिला के भवानीपुर नारायणपुर थाना क्षेत्र के कुसाहा गांव के सामने कोसी नदी किनारे कुंभी में रविवार की सुबह शव बरामद किया गया। जिसको देखते ही ग्रामीण इलाके में आग की तरह खबर फैल गई। क्षेत्र के बड़ी संख्या में लोग शव को देखने पहुंचे। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंचे थानाध्यक्ष रमेश साह एएसआई रवि कुमार पुलिस जवानों के साथ ग्रामीण नाविक की मदद से कुंभी से शव को बाहर निकाला।  शव का हाथ पैर बंधा था शव फुल भी गया। भवानीपुर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अनुमंडलीय अस्पताल नवगछिया भेजा। इधर शव को लेकर क्षेत्र के चौक चौराहे पर तरह-तरह की चर्चा हो रही थी। मृतक की पहचान संतोष कुमार के रूप में की गई है जिसे लगभग एक माह पहले किडनैप कर लिया गया था, उसके बाद से ही तलाश कर की जा रही थी

11जून को संतोष का रायपुर गांव से हुआ था अपहरण 

भवानीपुर थाना क्षेत्र के कुसाहा मध्य विद्यालय के सामने कोसी नदी किनारे जलकुम्भी से मधेपुरा जिला के औराई गॉव के अपहृत तीस वर्षीय युवक संतोष शर्मा का शव भवानीपुर पुलिस ने बरामद किया है. भवानीपुर नारायणपुर थाना क्षेत्र के रायपुर गांव से 11 जून को मधेपुरा जिले के औराई निवासी संतोष को रिश्तेदारी पीसा के गॉव से अगवा कर लिया गया था.  शव का हाथ, पैर रस्सी से बंधा था.पुलिस ने बताया की शव का पहचान मृतक संतोष के भाई अखिलेश कुमार ने संतोष के हाथ में उसका नाम एवं ओंम लिखा रहने पीठ में लहसन का दाग होने पर किया अपहृत संतोष के शव पहचान की है देखने से प्रतीत हो रहा था की बहुत बेरहमी से पहले पिटाई किया गया है उसके बाद शरीर का कपड़ा हटाकर हाथ पैर बांधकर कोसी नदी में फेंक दिया गया। हत्या की आशंका को देखते हुए संतोष के भाई मनीष कुमार ने भवानीपुर ओपी में पहाड़पुर निवासी  विद्यानंद शर्मा अजीत शर्मा, सूधो ठाकुर, ढोढो शर्मा के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई थी

विद्यानंद ने छोटी पुत्री को दिखाकर मधेपुरा में बड़ी बेटी की थी शादी

भवानीपुर नारायणपुर थाना क्षेत्र के पहाड़पुर निवासी विद्यानंद शर्मा ने अपनी बड़ी पुत्री की शादी मधेपुरा जिला के औराई गांव निवासी धर्मेंद्र शर्मा से मार्च माह में किया था. शादी के दौरान धर्मेंद्र शर्मा ने लड़की बदलने की बात रखी हर किसी को बताया लेकिन कुछ नहीं हुआ शादी के बाद ससुराल आना जाना हुआ साली के साथ बातचीत के दौरान पर्दा खुला बात सामने आई फिर धर्मेंद्र का दिल साली पर आ गया धीरे धीरे दोनो एक दुसरे के करीब हुए जीने मरने की कसमें खाई और फरार होकर शादी कर साथ रहने लगे थे. फरार होने के बाद विद्यानंद शर्मा ने रिश्तेदार की मदद से दवाब देकर महेशखूंट से अपनी पुत्री और दामाद को खोज पहाड़पुर लाया दोनों का संबंध विच्छेद करवा बड़ी पुत्री को साथ भेज दिया वावजूद जीजा और साली का प्यार जारी रहा.

9 जून को धर्मेंद्र दुबारा साली को लेकर हुआ फरार

शादी की नियत से अपहरण को लेकर धर्मेंद्र के ससुर पहाड़पुर निवासी विद्यानंद शर्मा ने 12 जून को भवानीपुर ओपी में प्राथमिकी दर्ज कराने गया था.लेकिन प्राथमिकी दर्ज कराने से पहले विद्यानंद शर्मा ने धर्मेंद्र शर्मा के दोस्त संतोष शर्मा का अपहरण कर लिया था कि उसकी पुत्री के अपहरण में संतोष शर्मा का भी हाथ होने की आशंका पर विद्यानंद शर्मा ने अपने सहयोगी के साथ मिलकर रायपुर से संतोष शर्मा को अगवा कर लिया था. गाॅव में चर्चा है और कहा जा रहा है कि विद्यानंद शर्मा ने अपनी पुत्री की शादी करने के लिए छोटी पुत्री का फोटो दिखाया मुंह दिखाई के दौरान भी धर्मेंद्र के परिजनों को विद्यानंद ने छोटी पुत्री को दिखाया था. लेकिन जब शादी की बात आई तो विद्यानंद शर्मा ने बड़ी पुत्री से धर्मेंद्र की शादी करा दिया. शादी के बाद धर्मेंद्र शर्मा का ससुराल आना जाना हुआ और उसकी साली ने उस राज को अपने जीजा धर्मेंद्र को बताया कि दीदी की आपसे कैसे शादी हुई है. धर्मेंद्र आग बबूला हो गया था. इसी मामले में विद्यानंद शर्मा को आशंका हुआ कि पुत्री के अपहरण करने में धर्मेंद्र शर्मा का साथ उसके दोस्त संतोष शर्मा ने दिया है इसीलिए संतोष शर्मा का अपहरण कर हाथ पैर बॉधकर बेरहमी से पीटकर हत्या कर शव को कोसी नदी मे फेक दिया. हालांकि इस बारे में विद्यानंद शर्मा ने अपहरण को लेकर कोई प्राथमिकी भवानीपुर ओपी में दर्ज नहीं करवाया लेकिन प्राथमिकी दर्ज करने से पहले वह इस घटना को अंजाम देकर भवानीपुर पुलिस को विद्यानंद अपनी पुत्री के अपहरण के बारे में पहुंचा तो इससे पहले विद्यानंद शर्मा ने संतोष का अपहरण करके उसका हत्या कर दिया था।

अपहरण और हत्या का घटना भी दिलचस्प

विद्यानंद शर्मा ने पुछताछ में पुलिस को पूछताछ मे बताया था की संतोष का अपहरण करके अजीत शर्मा के हवाले किया और अजीत शर्मा ने  संतोष को ढोड़ो शर्मा के हवाले किया उसके बाद गिरफ्तार तीनों ने अपहरण की बात कबूल कर कुछ नही बताया था। सभी ने मिलकर अजीत शर्मा का हत्या कर शव को छिपाने का प्रयास किया। लेकिन रविवार को शव कोसी नदी से बाहर आ गया और हत्या की पोल खुल गई।

आरोपियों को भेजा गया जेल

.शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अनुमंडलीय अस्पताल नवगछिया भेजा गया था.शव ज्यादा क्षत विक्षत होने के कारण पोस्टमार्टम के लिए नवगछिया से मायागंज अस्पताल भागलपुर भेज दिया गया है। वहीं प्राथमिकी बाद कांड के अनुसंधान कर्ता रवि कुमार ने त्वरित कार्रवाई करते हुए नामजद आरोपित विद्यानंद शर्मा, अजीत शर्मा एवं सूधो ठाकुर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.


Find Us on Facebook

Trending News