मांझी की जुबान काटने पर इनाम देनेवाले नेता को पार्टी से किया गया निष्कासित, मांगा गया जवाब

मांझी की जुबान काटने पर इनाम देनेवाले नेता को पार्टी से किया गया निष्कासित, मांगा गया जवाब

PATNA : हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतनराम मांझी की जुबान काटने पर 11 लाख रुपए देने की घोषणा करनेवाले बीजेपी प्रदेश कार्यसमिति सदस्य गजेन्द् झा को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है। साथ ही उनसे 15 दिन अपना पक्ष रखने के लिए कहा गया है। गजेंद्र झा ने मंगलवार को यह कहकर बवाल खड़ा कर दिया था कि जो भी ब्राह्मण मांझी की जुबान काटकर लाएगा, उसे 11 लाख रुपए देने के साथ उसके पूरे परिवार का पूरी जिंदगी भरण पोषण करुंगा। गजेंद्र झा के इस बयान को लेक राज्य के सभी राजनीतिक दलों ने आपत्ती जाहिर की थी और इसे अपराध को बढ़ावा देनेवाला बयान माना था। वहीं हम ने भी बीजेपी आलाकमान से इस मामले में कार्रवाई की मांग की थी।

हालांकि पार्टी के निष्कासन से पहले गजेंद्र झा ने इस पूरे विवाद को लेकर अपनी सफाई दी। इस बयान पर झा अभी भी कायम है। हालाँकि उन्होंने कहा की यह पार्टी की ओर से दिया गया बयान नहीं है। मेरे बयान से पार्टी का कोई लेना देना नहीं है।उन्होंने कहा कि अगर जीतनराम मांझी खुले मंच से माफ़ी नहीं मांगते है और यह सुनिश्चित नहीं करेंगे की आगे से वे ऐसा नहीं करेंगे। गजेन्द्र झा ने कहा की इनके नाम में राम लगा है। लेकिन इन्हें राम में कोई आस्था नहीं हैं। हिन्दू धर्म को गाली दिया। अब ब्राह्मणों को गाली दे रहे हैं। मैं ब्राह्मण का बेटा होने के नेता, राष्ट्रवादी हिन्दू होने के नाते और हिन्दू धर्म में आस्था होने के कारण मैंने यह बयान दिया है। उन्होंने कहा की जीतनराम मांझी को हिन्दू धर्म से इतना ही दिक्कत है तो धर्म क्यों नहीं बदल लेते हैं। वे गाली भी देते हैं और राम को मानते भी नहीं है।

मांझी अब भी विरोध में 

एक जाति (ब्राह्मण) विशेष पर अभद्र टिप्पणी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने फिर माफी मांगी है। उन्होंने मंगलवार को ट्वीट किया है कि एक जाति के खिलाफ बोले गये मेरे शब्द स्लिप ऑफ टंग हो सकता है, जिसके लिए मैं खेद प्रकट करता हूं। वैसे मैं ब्राह्मणवाद के खिलाफ हूं। इस व्यवस्था का विरोध जारी रहेगा।

Find Us on Facebook

Trending News