चुनाव में मुख्यमंत्री को हरानेवाले विधायक अपनी बहू को नहीं जितवा सके मुखिया का चुनाव, चौथे स्थान से करना पड़ा संतोष

चुनाव में मुख्यमंत्री को हरानेवाले विधायक अपनी बहू को नहीं जितवा सके मुखिया का चुनाव, चौथे स्थान से करना पड़ा संतोष

BUXER : 2019 में झारखंड के तत्कालिक मुख्यमंत्री रघुवर दास को विधानसभा चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में पटखनी देनेवाले सरयू राय अपनी बहू को मुखिया के चुनाव में जीत नहीं दिला सके। उनकी बहू चुनाव में चौथे स्थान पर रहीं। 

बताया गया कि सरयू राय की बहू निधु मुखिया चुनाव के लिए बक्सर जिले के इटाढ़ी प्रखंड की हरपुरजलवासी पंचायत से चुनाव लड़ रही थी। वह यहां की वर्तमान मुखिया भी थी। लेकिन ससुर का नाम और मुखिया होने के बाद भी वह अपनी जगह बचाने में कामयाब नहीं हो सकीं। चुनाव में वो चौथे स्थान पर रहीं। जबकि मनीषा शुक्ला मुखिया चुनी गईं। मनीषा को 907 वोट मिले हैं। मनीषा की निकटतम प्रत्याशी गीता देवी रहीं, जिनको 732 मत प्राप्त हुए हैं। यहां हार-जीत में 175 मतों का अंतर रहा है। वहीं सरयू राय की बहू को 702 वोट मिले हैं।

मुख्यमंत्री को हराने के बाद चर्चा में आए थे सरयू राय

2019 के झारखंड विधानसभा चुनाव में सबसे हॉट सीट जमशेदपुर पूर्वी थी। जमशेदपुर पूर्वी से भाजपा ने मुख्यमंत्री रघुवर दास को मैदान में उतारा था। उनका मुकाबला उनकी ही कैबिनेट में खाद्य आपूर्ति मंत्री रहे सरयू राय से था। भाजपा से टिकट कटने के बाद सरयू राय निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर मैदान में उतरे थे और उन्होंने रघुवर दास को हराया था।


Find Us on Facebook

Trending News