दिवंगत धर्मेंद्र यादव का पार्थिव शरीर पहुंचा बीजेपी प्रदेश कार्यालय, नेताओं ने दी भावभीनी श्रद्धांजलि

दिवंगत धर्मेंद्र यादव का पार्थिव शरीर पहुंचा बीजेपी प्रदेश कार्यालय, नेताओं ने दी भावभीनी श्रद्धांजलि

Patna : बीजेपी नेता धर्मेंद्र यादव का निधन हो गया है। उनके निधन पर बीजेपी में शोक का लहर व्याप्त है। अंतिम संस्कार से पहले बिहार भाजपा प्रदेश मुख्यालय में धर्मेंद्र प्रसाद यादव का पार्थिव शरीर लाया गया जहां उपस्थित नेताओं ने पुष्पांजली कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी। श्रद्धांजलि अर्पित करने वालों में बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय, संगठन महामंत्री नागेंद्र जी, सह संगठन महामंत्री शिव नारायण, मुख्यालय प्रभारी सुरेश रुंगटा, प्रदेश उपाध्यक्ष राधा मोहन शर्मा, राजेश वर्मा, प्रदेश मंत्री सिद्धार्थ शंभु, प्रदेश प्रवक्ता अरविंद सिंह, प्रो. अजफर शम्सी, बिहार भाजपा मीडिया प्रभारी राकेश कुमार सिंह, अशोक भट्ट, राजेश झा राजू एवं पंकज सिंह, प्रदेश कार्यालय मंत्री सतपाल नरोत्तम, विनोद शर्मा, अधिवक्ता अरविंद कुमार समेत अन्य भाजपा नेता शामिल रहे।

इधर धर्मेन्द्र यादव के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री एवं बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव ने कहा है कि मसौढ़ी के पूर्व विधायक और सहकारिता आंदोलन से लंबे समय तक जुड़े रहे और वर्तमान में भाजपा नेता धर्मेंद्र प्रसाद यादव के निधन पर शोक संवेदना प्रकट की है। उन्होंने कहा कि धर्मेंद्र प्रसाद यादव एक कर्मठ, संघर्षशील शख्सियत थे। 

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने शोक जताते हुए कहा कि धर्मेंद्र जी की गिनती आत्मीयता के साथ सबसे मिलने-जुलने वाले और सहज स्वभाव के नेताओं में होती थी। वे सामाजिक और राजनीतिक तौर पर जनता के बीच लगातार सक्रिय रहने वाले नेता थे। उनके शोक संतप्त परिवार के साथ इस दुख की घड़ी में खड़ा हूं। ईश्वर उनकी आत्म को शांति प्रदान करे। वहीं बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जयसवाल ने धर्मेंद्र को भाजपा का एक समर्पित नेता बताते हुए कहा कि पटना जिले की राजनीति में उनकी सक्रियता और भागीदारी बहुत महत्वपूर्ण थी। भाजपा को उनकी कमी हमेशा खलेगी।  पाटलिपुत्र के सांसद रामकृपाल यादव और पूर्व विधान परिषद सदस्य डॉ प्रोफेसर नवल किशोर यादव ने धर्मेंद्र जी को याद करते हुए कहा कि बिहार   में जब मिल्क कोऑपरेटिव की शुरुआत हुई थी तो धर्मेंद्र जी ने उसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। सहकारिता क्रांति के जनक माने जाने वाले वर्गीज कुरियन के काफी करीबी माने जाते थे। 

पूर्व विधायक सह प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल, संजय टाइगर, प्रवक्ता अखिलेश सिंह, विवेकानंद पासवान, और निखिल आनंद ने धर्मेंद्र जी को कृषि-पशुपालन एवं सहकारिता से जुड़ा जनोन्मुखी व्यक्ति बताते हुए कहा कि पटना डेयरी प्रोजेक्ट का संचालन जब नेशनल डेयरी डेवलपमेंट बोर्ड के जिम्मे आया तो वर्गीज कुरियन ने इनकी कार्यक्षमता और लगनशीलता को देखते हुए उसके संचालन की जिम्मेदारी धर्मेंद्र जी को सौंपी। धर्मेंद्र प्रसाद ने पटना डेयरी प्रोजेक्ट का बतौर अध्यक्ष 18 सालों तक सफल संचालन किया। बाद में वे मसौढ़ी से विधायक चुने गए। बाद में उनका क्षेत्र अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हो गया था। पिछले 5-6 वर्षों में धर्मेंद्र जी भाजपा से जुड़े हुए थे और संगठन के विस्तार में अहम भूमिका निभा रहे थे। 

पटना से कुमार गौतम की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News