गलवान घाटी में शहीद जवान का पार्थिव शरीर पहुंचा भागलपुर, हज़ारों लोगों ने नम आँखों से दी अंतिम विदाई

गलवान घाटी में शहीद जवान का पार्थिव शरीर पहुंचा भागलपुर, हज़ारों लोगों ने नम आँखों से दी अंतिम विदाई

BHAGALPUR : कहा गया है की "वतन पर जो फिदा होगा अमर वो नौजवा होगा" भारत माता की रक्षा के लिए रजौन प्रखंड के सकहरा गांव के रहने वाले आर्मी राजेश कुमार चौधरी का पुत्र सुधांशु कुमार ने हंसते हंसते देश के लिए अपने  प्राणों को न्योछावर कर दिया। आज शहीद का पार्थिव शरीर गाँव पहुंचा। जिसके बाद शहीद की एक झलक पाने के लिए गांव के हजारों की संख्या में लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। 


बताते चलें कि बांका जिला के रजौन के सकहरा के रहने वाले सेना के शहीद जवान सुधांशु कुमार का अंतिम संस्कार शहर के बरारी घाट में किया गया। शहीद जवान की अंतिम यात्रा में हजारों की संख्या में लोग पैदल और मोटरसाइकिल से जाकर शामिल हुए। वही भारत माता की जय और शहीद जवान के जयकारे लगाए गए। जवान के दादा ने जहां उन्हें मुखाग्नि दी। वही सेना के जवानों ने शहीद जवान को सलामी दी। 

शहीद जवान सुधांशु भारत चीन सीमा के  लद्दाख गलवान घाटी में तैनात थे। इसी दौरान 21 अगस्त को  बॉयलर फटने से वह बुरी तरह झुलस गए। जिससे वे गंभीर रूप से जख्मी हो गये थे। जिनका इलाज सेना के अस्पताल में पहले चला। फिर उन्हें एयरलिफ्ट कर लेह अस्पताल ले जाया गया था। लेकिन  एक सप्ताह तक जिंदगी और मौत से लड़ने के बाद 30 अगस्त को शहीद हो गए। 

शहीद जवान के दादा और चाचा का कहना है कि सेना के द्वारा सूचना मिली थी कि उनका पोता बुरी तरीके से घायल हो गया है। जिसके बाद शहीद जवान के माता पिता वहां गए हुए थे। लेकिन 30 तारीख को जवान ने शहादत प्राप्त कर ली। वही शहीद जवान के साथ आए सेना के सूबेदार ने बताया कि ड्यूटी के दौरान वह घायल हुए थे और इलाज के क्रम में उन्होंने शहादत प्राप्त की है। हालाँकि वह ज्यादा कुछ भी बताने में असमर्थ दिखे। शहीद जवान के अंतिम यात्रा में शामिल लोगों ने अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि शहीद जवान को दी। वहीं भारत माता की जय और भारतीय सेना जिंदाबाद के नारे के साथ शहीद जवान को विदाई दी।

भागलपुर से बालमुकुन्द की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News