कश्मीर के बिहारी श्रमिकों की चिंता, नैनिताल को भूले : पहाड़ धंसने के बाद हादसे में मारे गए मजदूरों के परिवार की पुकार, हमारे अपनों का शव घर ला दे सरकार

कश्मीर के बिहारी श्रमिकों की चिंता, नैनिताल को भूले : पहाड़ धंसने के बाद हादसे में मारे गए मजदूरों के परिवार की पुकार, हमारे अपनों का शव घर ला दे सरकार

BETTIYA : नैनीताल में पहाड़ दरकने से प•चम्पारण के बेतिया में  कोहराम मच गया है, हादसे में मारे गए बिहारी मजदूरों के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। बताया गया कि बेतिया से दशहरे के बाद दस मजदूरों की टोली मजदूरी करने नैनीताल गई थीं। घर पर पहाड़ गिरने से उसमें सो रहे नौ मजदूरों की मलवे में दबकर मौत हो गई है। अपनों के मौत की खबर सुनकर घर में चीत्कार मचा हुआ है। इन परिवार के लोगों ने बिहार सरकार से मृतकों के शव लाने की गुहार लगाई है।

तीन दिन पहले नैनीताल में हुए लैंड-स्लाइड से बेतिया में कोहराम मचा हुआ है। नैनीताल में पहाड़ क्या दरका, नौ परिवारों पर आफत का पहाड़ टूट गया जिले के बैरिया प्रखंड के रनहा और सूर्यपुर गांव में जहाँ मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है तो वहीं मृतक मजदूरों के घरों पर चीख-पुकार मचा हुआ है।घर के बच्चों और महिलाओं का रो-रोकर बुरा हाल है।पूरा परिवार बदहवास है।पहाड़ों के दरकने से इनके  घरों के चिराग हीं नहीं बुझे, मानो इनकी पूरी दुनिया हीं उजड़ गई हैं।अब इनके घर वालों के सामने जिंदगी पहाड़ सी हो गई है।घर की महिलायें गश खा कर गिर जा रहीं हैं।

नाथू यादव,रोते हुए,(मृतक ढोंढा यादव का बड़ा भाई) ने बताया की दशहरे के बाद कमाई करने नैनीताल गया था।रात को सोते समय घर पर पहाड़ गिरने से मौत हो गई।पत्नी के अलावा घर में उसकी चार बेटियां और दो बेटे हैं।घर मे वहीं कमाने वाला व्यक्ति था। सरकार से उसकी डेड बॉडी को घर पर भिजवाने की अपील की है। वही नारायण चौधरी(मृतक अनिल चौधरी का बेटा) ने बताया की दशहरा के बाद कमाने के लिए नैनीताल गया था और छठ पूजा में घर भी आने वाला था।रात को सोते समय घर पर पहाड़ गिरने से मौत हो गई।उसकी दो बेटियां हैं।घर मे वो हीं आमदनी का जरिया था।

हरेंद्र यादव(मृतक मजदूर संतोष यादव का पिता) ने बताया की मजदूरी  करने के लिए दशहरा के बाद नैनीताल गया था। रात को सोते समय घर पर पहाड़ गिर जाने से उसकी मौत हो गई। किसी तरह से सरकार उसकी डेड बॉडी को ला दे। यहीं हमलोग चाह रहे हैं।घर में उसकी एक बेटी और दो बेटे हैं।घर में वो हीं कमाने वाला था।

सुनील वर्मा(पूर्व मुखिया व समाजसेवी) ने बताया कि जैसे हीं इस घटना की जानकारी मिली मैंने नेट से नैनीताल एसपी का नंबर निकाला और उनसे इस घटना के बारे में जानकारी ली। फिर एसपी के कहने पर मैंने संबंधित थाने के एसएचओ से बात कर घटना की पूरी जानकारी  ली। यहां से जो दस लोग नैनीताल मजदूरी करने गए थे उसमें सिर्फ एक व्यक्ति हीं जिंदा बच पाया है। नैनीताल के प्रशासन के कंट्रोल रूम से हमारी बात हुई है। छह लोगों की डेड बॉडी को अबतक बरामद कर लिया गया है तीन लोगों के शव को खोजने की कोशिश की जा रही।

REPORTED BY AASHISH


Find Us on Facebook

Trending News