दोस्त की बीवी से अवैध संबंध के कारण की गई अनाज व्यावसायी की हत्या, जिले की जिम्मेदारी संभालने के बाद एसपी ने दस दिन में सुलझाया मामला

दोस्त की बीवी से अवैध संबंध के कारण की गई अनाज व्यावसायी की हत्या, जिले की जिम्मेदारी संभालने के बाद एसपी ने दस दिन में सुलझाया मामला

KATIHAR : कटिहार में साल के पहले दिन हुए आटा चक्की मालिक मिंटू सिंह हत्याकांड को पुलिस ने सुलझा लिया है, व्यवसायिक मित्र के पत्नी के साथ अवैध संबंध के कारण कोढ़ा थाना क्षेत्र के कोलासी पंडित मोड़ के पास इस घटना को अंजाम दिया गया था।  मामले में पुलिस ने , लाइनर से लेकर शूटर तक चारों आरोपीको  गिरफ्तार किया है। साथ ही हत्या में इस्तेमाल किए गए पिस्टल और एक देसी कट्टा भी बरामद किया है। जिले के पुलिस कप्तान ने बताया कि इस केस को सुलझाने के लिए, साइंटिफिक तरीके का इस्तेमाल किया गया।

साल 2022 की शुरुआत ही कटिहार पुलिस के लिए चुनौती के साथ शुरू हुआ है,कोढ़ा थाना क्षेत्र के कोलासी पंडित मोड़ के पास अज्ञात अपराधी द्वारा आटा चक्की संचालक मिंटू सिंह जब अपना ससुराल ह्रदय गंज से लौट रहा था इस दौरान गोली मारकर हत्या कर दिया गया था, प्रारंभिक जांच में जो बातें सामने आई है उसमें कहा यह जा रहा था कि उसे किसी ने बार-बार फोन करके गेहूं के गाड़ी खड़ा होने की सूचना पर बुलाया था और जब वह मोटरसाइकिल से कोलासी पंडित मोड़ के पास पहुँचा तो पहले से घात लगाए अपराधियों ने उसे दो गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया। 

पहले समझा था दुर्घटना, फिर हुई हत्या की पुष्टि

पहले तो परिजन इसे दुर्घटना समझने लगे लेकिन बाद में जब शरीर पर गोलियों के निशान देखी गई तो साल के पहले दिन ही हुए इस हत्या से पुलिस भी सन्न रह गया, धीरे धीरे हर करी को जोड़ते हुए पुलिस ने 10 दिन बाद जब पूरा प्रकरण का खुलासा किया है तो सुनने वाले भी सन्न रह गए, हत्या के पूरा साजिश मिंटू के ही व्यवसायिक साझेदार सह मित्र सुबोध ने ही अन्य अपराधियो के साथ मिलकर रचा था और इस पूरे कांड में उसका सहयोग भोलू,नीतीश और राहुल ने अलग अलग भूमिका में उनका सहयोग किया था, घटना के बाद से ही पुलिस दबाव में थे लोग इस घटना पर दोषियों पर कार्रवाई करते हुए, इंसाफ की मांग कर रहे थे।


हत्यारे की बीवी से था संबंध

अवैध संबंध के कारण हुए इस हत्या पर पुलिस अधीक्षक जितेंद्र कुमार ने कहा कि एक जनवरी 2022 के इस घटना को 3 जनवरी को जॉइनिंग के साथ ही उन्होंने चुनौती के रूप में लिया था, इसके लिए उन्होंने जब घटनास्थल का निरीक्षण किया था तभी पहले से मिले कुछ इनपुट के आधार पर ये साफ होने लगा था इस घटना का मास्टरमाइंड बेहद ही करीबी कोई है और बाद में जो बातें सामने आई उसमें इसका खुलासा भी हो गया है, एसपी जितेंद्र कुमार ने कहा कि दरअसल सुबोध के पत्नी के साथ मृतक का अवैध संबंध था।

 उधर एक और बात सामने आई है कि भोलू उर्फ उमेश जो इस हत्याकांड में सुबोध के सहयोगी भी है,वह भी सुबोध के पत्नी के साथ अवैध रिश्ते में संलिप्त था, इसलिए उमेश उर्फ भोलू ने ही फोन करके एक जनवरी को ससुराल से मंटू को बुलाया था और फिर पहले उमेश उर्फ भालू ने और फिर उसी का एक और मित्र नीतीश ने गोली मारकर मंटू की हत्या कर दिया, इस पूरे मामले में एक और नाम राहुल का भी है जो घटना में इस्तेमाल किए गए पिस्टल और बुलेट सप्लाई के आरोपी है फिलहाल पुलिस ने घटना में सम्मिलित चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर पूरे मामले को सुलझा दिया है।

साल के पहले दिन हुए इस वारदात को पुलिस ने जिस तरह से चुनौती के रूप में लेते हुए सुलझाया है, उससे तो यह लगता है अपराध के उद्भेदन से जुड़े मामले में कटिहार पुलिस के आगाज बेहतर हुआ है और अब पूरे साल अपराधिक मामले का उद्भेदन और अपराध नियंत्रण को लेकर किए जा रहे प्रयास का अंजाम भी बेहतर होगा।

Find Us on Facebook

Trending News