बिहार में बिजली दर बढ़ाने की नई चाल,बिजली कंपनी की नई पॉलिसी के विरोध में उतरा पावर इंजीनियर संघ

बिहार में बिजली दर बढ़ाने की नई चाल,बिजली कंपनी की नई पॉलिसी के विरोध में उतरा पावर इंजीनियर संघ

PATNA : बिजली कंपनी का एक निर्णय बिहार के बिजली उपभोक्ताओं पर भारी पड़ सकता है। दरअसल बिजली कंपनी ने 24 घंटे निर्बाध बिजली देने के लिए न्यू मेंटेनेंस पॉलिसी लाने की तैयारी की है। इसके तहत अभी से 10 गुनी ज्यादा राशि मेंटेनेंस करने वाली प्राइवेट एजेंसी को दी जाएगी। इसका सीधा असर बिजली उपभोक्ताओं की जेब पर भी पड़ेगा।

कंपनी के इस फैसले के विरोध में अब विभाग के इंजीनियर आ चुके हैं। इसे वापस लेने की मांग को लेकर ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव सह बिहार स्टेट पावर होल्डिंग कंपनी के सीएमडी प्रत्यय अमृत से मिलने का समय मांगा है।

इंजीनियरिंग सर्विस एसोसिएशन के बैनर तले इंजीनियरों के साथ बैठक करने के बाद संघ के महासचिव सुरेंद्र कुमार ने कहा कि न्यू मेंटेनेंस पॉलिसी लागू होने के बाद एक बार फिर से बिजली दर में बढ़ोतरी करनी होगी। इसका सीधा खामियाजा उपभोक्ताओं को भुगतना पड़ेगा इससे बिजली कंपनियों का घाटा और भी बढ़ेगा

न्यू मेंटेनेंस पॉलिसी को जानिए

बिजली कंपनी ने 24 घंटे इनटू 7 दिन बिजली सप्लाई देने के लिए न्यू मेंटेनेंस पॉलिसी तैयार की है। इसके तहत दक्षिण बिहार के 17 और उत्तर बिहार के 21 जिलों में बिजली का मेंटेनेंस करने के लिए दो प्राइवेट एजेंसी होंगी। ये एजेंसियां 33 केवी फीडर 11 केवी फीडर एलटी लाइन और इससे जुड़े सर्विस वायर के फ्यूज कॉल का मेंटेनेंस करेंगे।

अभी छोटी छोटी एजेंसियों के माध्यम से प्रत्येक डिवीजन के प्रत्येक सेक्सन में मानव बल कार्य कर रहे हैं ।

संघ का कहना है कि आने वाले दिनों में संचरण लाइन के लिए प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है इसके तहत ट्रांसमिशन लाइन का मेंटेनेंस भी निजी हाथों में होगा। संघ का कहना है कि न्यू मेंटेनेंस पॉलिसी के बाद विभाग के इंजीनियर मूकदर्शक बन कर रह जाएंगे। फ्रेंचाइजी मेंटेनेंस करने वाली एजेंसी मनमानी करेगी। जनता को 24 घंटे क्वालिटी बिजली देने का लक्ष्य अधूरा हो जाएगा।

विवेकानंद की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News