भागे-भागे भोलेनाथ की शरण में पहुंचे नये हाकिम, DEO के लिए आनन-फानन में खोला गया बंद सोमेश्वरनाथ मंदिर का पट्ट

भागे-भागे भोलेनाथ की शरण में पहुंचे नये हाकिम, DEO के लिए आनन-फानन में खोला गया बंद सोमेश्वरनाथ मंदिर का पट्ट

MOTIHARI: बिहार के सरकारी अधिकारी अपने आप को कानून से ऊपर समझते हैं। कलक्टर-एसपी की बात छोड़िए दूसरे दर्जे के अफसर भी अपने आप को कानून ठेंगे पर रखकर काम करते हैं. पूरे बिहार का मठ-मंदिर कोरोना काल में बंद है। सरकार ने सभी मंदिरों को श्रद्धालुओं के लिए बंद रखने का आदेश दिया है इसके बाद भी अधिकारी मंदिर खुलवाकर पूजा कर रहे। पिछले महीने बिहार के एक डीएम के लिए मंदिर का दरवाजा खोला गया था। अब एक जिले के डीईओ के लिए मंदिर खुला और पूजा-पाठ करवाया गया। 

मामला पूर्वीचंपारण का है ,जहां के डीईओ के लिए अरेराज स्थित प्रसिद्ध सोमेश्वर महादेव मंदिर को खोला गया। सुशासन राज के मोतिहारी जिला मुख्यालय को छोड़ 30 किलोमीटर की दूरी तय कर सोमेश्वरनाथ महादेव मंदिर में दर्शन पूजन करने पहुंच जाते है .जिला शिक्षा पदाधिकारी की दर्शन-पूजन के लिए आने की भनक लगते ही  शिक्षकों का हुजूम लग जाता है। सरकार के आदेश पर बंद मंदिर को खुलवाकर डीईओ साहब को दर्शन- पूजन करावाया जाता है। इसके बाद मंदिर में  शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया जाता है। यह तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है ।

बताया जाता है कि तस्वीर सोमवार का है। जब पूरे जिले में शिक्षक नियोजन को लेकर काउंसिंलिंग कैम्प लगा हुआ था तो जिला शिक्षा पदाधिकारी बंद मंदिर का पट्ट खुलवाकर पूजा-पाठ कर रहे थे।इधर, अरेराज में शिक्षक नियोजन को लेकर लगे कैम्प में जिला शिक्षा कार्यालय व पंचायत नियोजन इकाई की मिली भगत से तीन पंचायतों के मेघा सूची एनआइसी पर बिना अपलोड किए अभ्यर्थी को काउंसिंग के लिए बुलाने के कारण बीडीओ द्वारा काउंसिंग को स्थगित कर दिया गया । ऐन वक्त पर काउंसिंग स्थगित होने से अभ्यर्थी आक्रोशित हो गए थे। जिला शिक्षा पदाधिकारी के सोमेश्वरनाथ महादेव मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद सम्मानित होने के फोटो वायरल होने पर आमलोगों में चर्चा का विषय बन गया है। लोग यह कहते नही थक रहे कि आमलोगों के भोलेनाथ के दर्शन पूजन पर रोक लगाया गया है और अधिकारियों के लिए मंदिर का पट्ट खोला जा रहा. आमलोग जब लॉक डाउन का नियम मजबूरी में तोड़ते है तो लाठियां मिलती है । लेकिन प्रशासन के लिए कोई बात नही है ।

जिला शिक्षा पदाधिकारी संजय कुमार ने बताया कि मुझे मालूम नही था कि मंदिर में पूजा करने पर रोक है ।पुजारी द्वारा भी मंदिर बंद की बात नही बताने के कारण पूजा अर्चना किया गया .इस संबंध में अरेराज एसडीओ संजीव कुमार से पूछने पर बताया गया कि कोविड को लेकर लगे लॉक डाउन में मंदिर में पूजा अर्चना करने पर पूर्णतः रोक है ।अगर ऐसा हुआ है तो गंभीर बात है । वायरल फोटो को लेकर मंदिर महंथ से जनकारी ली गई है। मंदिर महंथ द्वारा सिर्फ सम्मानित करने की बात स्वीकार किया गया । जिसको लेकर मंदिर महंथ से स्पष्टीकरण का मांग करते हुए लॉक डाउन का नियम पालन को लेकर चेतावनी दी गई .

मोतिहारी से हिमांशु की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News