चपरासी की नौकरी कर रहे व्यक्ति को एक दिन के लिए बना दिया विभाग का ऑफिसर, कुर्सी पर बैठते ही ले लिया बड़ा फैसला

चपरासी की नौकरी कर रहे व्यक्ति को एक दिन के लिए बना दिया विभाग का ऑफिसर, कुर्सी पर बैठते ही ले लिया बड़ा फैसला


DESK : जिस कार्यालय में दशकों से चपरासी की नौकरी की, एक दिन अचानक उसी कार्यालय के मुख्य अधिकारी की कुर्सी पर बैठने का मौका मिल जाएगा, ऐसा सुनने को बहुत कम मिलता है। मध्यप्रदेश के भिंड में ऐसा ही एक मामला सामने आया है। यहां ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर ने अपने दफ्तर में काम करने वाले चपरासी को एक दिन के लिए अपना कार्यभार सौंप दिया.

 इस अनोखे प्रयोग को लेकर बताया गया कि भिंड के ब्लॉक शिक्षा अधिकारी सुदामा सिंह भदौरिया ने अपने दफ्तर में कार्यरत चपरासी रमेश श्रीवास को एक दिन के लिए बीईओ के रूप में कार्यभार सौंपा. हालांकि उनके पास प्रशासनिक और वित्तीय अधिकार नहीं थे, क्योंकि इसकी लंबी प्रक्रिया होती है.

एक दिन के लिए ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर बनने वाले रमेश श्रीवास ने बताया कि उन्हें नौकरी करते हुए 37 साल हो गए, लेकिन उन्होंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि उन्हें अफसर की कुर्सी पर बैठने का मौका मिलेगा.

कार्यभार लेने के बाद किया स्कूल का दौरा, चेक किया रजिस्टर

रमेश श्रीवास ने कहा कि मैं हर रोज दफ्तर में काम करने वाले स्टाफ की सेवा में लगा रहता हूं, लेकिन 1 दिन का ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर बनने के बाद मैंने उत्कृष्ट स्कूल का दौरा किया. रमेश ने बताया कि स्कूल में निरीक्षण के दौरान रजिस्टर चेक किया. इसके साथ ही आदेश निकाला है सभी लोग समय से दफ्तर आएं

इसके अलावा मैंने दफ्तर में गंदगी करने वालों, यहां वहां थूकने वालों, सिगरेट पीने वालों और नशा करने वालों पर 200 रुपए जुर्माने का आदेश भी निकाला है.

'प्रयोग पर बोले बीईओ

वहीं बीईओ भदौरिया ने कहा कि मैंने एक प्रयोग किया है. इसका उद्देश्य किसी भी कर्मचारी के मन में यह भाव न रहे कि हम छोटे कर्मचारी हैं. मेरा मानना है कि शासन-प्रशासन के द्वारा हम सभी पदस्थ कर्मचारियों को जो शक्तियां दी गई हैं, वह सभी के लिए अपने-अपने स्तर पर महत्वपूर्ण होती हैं. कर्मचारी और अधिकारियों के भेद को खत्म करने के मकसद से यह फैसला किया था.


Find Us on Facebook

Trending News