पाकिस्तान में रची गई थी दरभंगा में ट्रेन ब्लास्ट की साजिश, NIA के चार्जशीट में इस आतंकी संगठन का नाम आया सामने

पाकिस्तान में रची गई थी दरभंगा में ट्रेन ब्लास्ट की साजिश, NIA के चार्जशीट में इस आतंकी संगठन का नाम आया सामने

DARBHANGA : इस साल जून में दरभंगा रेलवे स्टेशन पर खड़ी दरभंगा-सिकंदराबाद एक्सप्रेस ट्रेन के पार्सल कोच में हुए ब्लास्ट की साजिश पाकिस्तान में रची गई थी। इस बात का जिक्र मामले की जांच कर रहे एनआईए ने अपने चार्जशीट में किया है। मामले में एनआईए ने गुरुवार को पटना के एनआईए कोर्ट में पांच आरोपितों के खिलाफ चार्जशीट दायर की है। इसमें चार आरोपित न्यायिक हिरासत के तहत बेऊर जेल में बंद हैं, जबकि पाकिस्तान में रह रहा यूपी का शामली निवासी इकबाल मोहम्मद इलियास हाफिज अभी फरार है। बताया गया कि विदेश में रहने के कारण एनआईए अब तक उसे गिरफ्तार नहीं कर पाई है।

इससे पहले गुरुवार को पटना के एनआईए कोर्ट के विशेष न्यायाधीश गुरुविंदर सिंह मल्होत्रा की अदालत में चार्जशीट दायर की गई।  जिन आरोपितों के खिलाफ चार्जशीट की गई है, उनमें हैदराबाद निवासी सगे भाई नासिर मलिक और इमरान मलिक के अलावा यूपी के शामली निवासी काफिल अहमद और हाजी सलीम भी शामिल हैं। सभी पांचों अभियुक्त यूपी के शामली के मूल निवासी हैं। एनआइए ने आरोपपत्र में लिखा है कि अनुसंधान में पाया कि सभी अभियुक्तों का आपस में संबंध था और सभी लश्कर-ए-तैयबा के सक्रिय सदस्य हैं और संगठन के निर्देश पर पार्सल ब्लास्ट को अंजाम दिया था. आरोपितों के खिलाफ आइपीसी की धारा 120बी, 468, 475बी, 3,4,5 के तहत चार्जशीट दाखिल की गयी है. इसके अतिरिक्त विस्फोटक पदार्थ अधिनियम 1908 की धारा 16, 17, 18,18बीं, 20, 23, 38, 39, 40 में (पी) अधिनियम के तहत आरोप लगाये गये हैं।


शीशी के बोतल में रखा था विस्फोटक

गौरतलब है कि दरभंगा रेलवे स्टेशन पर 17 जून को पार्सल बम ब्लास्ट हुआ था। हालांकि विस्फोट में कोई घायल नहीं हुआ था। पार्सल में विस्फोटक लिक्विड रूप में था, जिसे बोतल में भरा गया था। बोतल को कपड़ों से लपेटा गया था और कपड़ों की खेप के रूप में इसे बुक किया गया था। घटना की सूचना मिलने पर समस्तीपुर से जीआरपी के डीएसपी नवीन कुमार सहित पूरी टीम मौके पर पहुंची थी। छानबीन के दौरान कपड़ों के बीच रखी गई 50 एमएल की शीशे की बोतल मिली थी। उसमें ही विस्फोटक सामग्री रखी गई थी। पुलिस ने जांच के बाद इस बात का खुलासा किया था कि विस्फोट रखे कपड़े को सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर बुक किया गया था। 

हैदराबाद से मिला था कनेक्शन

ट्रेन में हुए विस्फोटों के तार हैदराबाद से जुड़े पाए गए थे।  इसे मोहम्मद सूफियान के नाम पर बुक किया गया था। जांच की कड़ी में तेलंगाना व बिहार पुलिस और एनआईए ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए दो सगे भाइयों नासिर और इमरान मलिक को गिरफ्तार किया था। इस मामले में सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर लगे सीसीटीवी फुटेज से अहम सुराग मिले थे। जब इसकी जांच बिहार पुलिस, तेलंगाना सीआई सेल के अधिकारियों, राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के अधिकारियों ने की तो उन्हें पता चला कि दो व्यक्ति एक टैक्सी से उतरे थे। खुफिया अधिकारियों ने सिकंदराबाद स्टेशन बुकिंग काउंटर से आधार कार्ड की फोटो कॉपी और आरोपी के बुकिंग के समय दिए गए मोबाइल फोन नंबर का भी पता कर लिया। पकड़े गए आरोपितों के पास से जब्त मोबाइल के कॉल डिटेल से भी कई खुलासे हुए। 

फरार होने की चल रही थी तैयारी

जांच के दौरान, पुलिस को हैदराबाद स्थित आसिफ नगर के नासिर व इमरान भाइयों की भूमिका पर संदेह हुआ। जब उनके आवास पर छापेमारी की गई तो दोनों भाइयों में से एक ही मौजूद था। यह भी पता चला है कि उनमें से एक हैदराबाद से नई दिल्ली के लिए फ्लाइट लेकर फरार होने की तैयारी में था। लेकिन उससे पहले ही पुलिस ने उसे दबोच लिया। इन आरोपितों की निशानदेही पर एनआईए ने यूपी के शामली से काफिल अहमद और हाजी सलीम को भी गिरफ्तार किया था।


Find Us on Facebook

Trending News