विधानसभा भवन के शताब्दी समारोह में शिरकत करने राष्ट्रपति आज आएंगे पटना, जोरदार स्वागत की तैयारी में जुटी सरकार

विधानसभा भवन के शताब्दी समारोह में शिरकत करने राष्ट्रपति आज आएंगे पटना, जोरदार स्वागत की तैयारी में जुटी सरकार

PATNA : देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बिहार विधानसभा भवन के शताब्दी समारोह में शिरकत करने के लिए आज दोपहर पटना पहुंचेंगे। उनके स्वागत को यादगार बनाने की तैयारी मंगलवार की देर रात तक चलती रही।इस दौरान वह 46 घंटे पटना में रहेंगे। वह 22 अक्टूबर की सुबह 11 बजे तक पटना से वापस नई दिल्ली के लिए रवाना होंगे।

राष्ट्रपति कोविंद दोपहर एक बजे पटना एयरपोर्ट पहुंचेंगे। वहां से वे सीधे राजभवन चले जायेंगे। शाम को यहीं पटना हाईकोर्ट के न्यायाधीशों संग ‘हाई-टी’ की शोभा बढ़ायेंगे। 21 अक्टूबर को बिहार विधानसभा भवन के शताब्दी समारोह को लेकर सुबह 10.50 बजे विधानसभा परिसर पहुंचेंगे। वे यहां शताब्दी स्तंभ का शिलान्यास करेंगे और इस परिसर में बोधिवृक्ष के शिशु पौधे का रोपण करेंगे। फिर समारोह को संबोधित करेंगे। वे ‘सदन में विमर्श ही संसदीय प्रणाली का मूल है’ विषय पर विधायकों को संबोधित करेंगे। 

शाम साढ़े सात बजे से महामहिम राष्ट्रपति के सम्मान में विस अध्यक्ष के सरकारी आवास पर रात्रि भोज रखा गया है। इस दौरान बिहार कोकिला शारदा सिन्हा समेत कुल 77 कलाकार राज्य की सांस्कृतिक खूबियों का प्रदर्शन उनके समक्ष करेंगे। 22 को सुबह पटना भ्रमण के बाद राजभवन से पटना एयरपोर्ट के लिए राष्ट्रपति सुबह 11 बजे रवाना होंगे।

महावीर मंदिर और पटना साहिब का करेंगे दौरा

वापसी से पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 22 अक्टूबर को पटना में  चार जगहों पर भ्रमण करेंगे। वे सबसे पहले पटना सिटी स्थित गुरुगोविद सिंह की जन्मस्थली गुरुद्वारा जाएंगे। यहां सुबह आठ बजकर 40 मिनट पर राष्ट्रपति का तख्त साहिब आगमन की संभावना है। प्रबधंक कमेटी की ओर से राष्ट्रपति का स्वागत किया जाएगा। इसके बाद वे लंगर छकेंगे। 

 उसके बाद रेलवे स्टेशन स्थित महावीर मंदिर में दर्शन करेंगे। दोनों जगहों पर वे करीब 15 से 20 मिनट तक रहेंगे। इसके अलावा भगवान महात्मा बुद्ध की स्मृति स्थल पर बनाए गए विपस्यान ध्यान केंद्र को भी राष्ट्रपति देखेंगे। उसके बाद वे गांधी मैदान स्थित खादी मॉल को देखने जाएंगे।

राष्ट्रपति बनने के बाद चौथा दौरा

राष्ट्रपति कोविंद का बिहार से विशेष लगाव है। 8 अगस्त 2015 को उन्होंने बिहार के राज्यपाल पद की शपथ ली और 19 जून 2017 को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाए जाने के बाद बिहार के राजभवन से सीधे राष्ट्रपति भवन के लिए विदा हुए। राष्ट्रपति बनने के बाद वे चौथी बार बिहार के दौरे पर पहुंच रहे हैं। पहली बार 9 नवम्बर 2017 को तृतीय कृषि रोडमैप का शुभारंभ करने आये थे। 15 नवम्बर 2018 को राजेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय पूसा तथा एनआईटी पटना के दीक्षांत समारोह में शामिल होने बिहार आए। तीसरी बार 25 अक्टूबर 2019 को महामहिम राजगीर परिभ्रमण पर पहुंचे थे। राष्ट्रपति के रूप में अपनी पहली दो यात्राओं में वे एक-एक दिन राजभवन में रुके थे। अबकी चार साल बाद 22 और 23 की रात वे यहां विश्राम करेंगे।

Find Us on Facebook

Trending News