शकील पर कांग्रेस की चुप्पी यानी महागठबंधन में सब कुछ ठीक नहीं

शकील पर कांग्रेस की चुप्पी यानी महागठबंधन में सब कुछ ठीक नहीं

PATNA : वरिष्ठ कांग्रेसी नेता शकील अहमद मधुबनी सीट से निर्दलीय चुनाव लड़कर खुलेआम महागठबंधन को चुनौती दे रहे हैं,खुद राहुल गांधी मधुबनी सीट पर वीआईपी प्रत्याशी को जिताने की अपील कर चुके हैं।

वीआईपी पार्टी सहित महागठबंधन के तमाम दलों के बड़े नेता शकील पर प्रदेश  कांग्रेस की चुप्पी से सकते में हैं। शकील के इस कदम पर कांग्रेज़ बिल्कुल खामोश हैं। खामोशी से कई सवाल जन्म ले रहे हैं।

क्या कांग्रेस इस बड़े कद के अल्पसंख्यक नेता पर कारवाई से डर रही है? या फिर शकील को मधुबनी से निर्दलीय चुनाव लड़ाने के लिए पार्टी के अंदर पहले से ही सहमति बन चुकी है?अगर ऐसा नहीं है तो फिर अपने विधायकों को शकील अहमद के समर्थन में क्यों खड़ा कर दिया है ।

क्योंकि कांग्रेस विधायक भावना झा सहित कई कांग्रेसी  मधुबनी के मैदान में शकील के साथ खुलेआम खड़े हैं।  दूसरी तरफ  मधुबनी लोकसभा से निर्दलीय ताल ठोक रहे कांग्रेसी नेता शकील अहमद पर प्रदेश कांग्रेस ने मौन साध रखा है ।

कांग्रेसियों की चुप्पी ने महागठबंधन को भीतर भीतर असहज कर रखा है चर्चा का बाजार इसलिये और गर्म है की राहुल गांधी स्वयं वीआईपी पार्टी के प्रत्याशी को जिताने का अपील कर चुके हैं उसके बावजूद मधुबनी के मैदान में कांग्रेसियों ने महागठबंधन के खिलाफ खेल जारी रखा है।

बताया जा रहा है कि शकील के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने के पीछे केंद्रीय स्तर के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता है । मतलब साफ है की शकील पर कार्रवाई करने से कांग्रेस डर रही है वहीं दूसरी तरफ महागठबंधन के असहज होने से कांग्रेस को कोई फर्क नहीं पड़ता।

विवेकानंद की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News