त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों के शपथ ग्रहण कार्यक्रम बना रणक्षेत्र, दो पक्षों के बीच जमकर चली लाठियां

त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों के शपथ ग्रहण कार्यक्रम बना रणक्षेत्र, दो पक्षों के बीच जमकर चली लाठियां

HAJIPUR : बिदुपुर प्रखंड मनरेगा भवन में त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों के शपथ ग्रहण कार्यक्रम के दरम्यान वार्ड सदस्यों की प्राईज रेट बढ़ाकर अपने पाले में करने के प्रयास को लेकर जमकर बवाल हुआ। उप मुखिया पद के दो दावेदार व उनके समर्थकों के बीच तीखी नोंकझोंक हुई। नौबत मारपीट तक पहुंची। ब्लॉक कैंपस रणक्षेत्र में तब्दील हो गया। मौके पर पहले से मौजूद पुलिस ने समझा-बुझा कर हालात नियंत्रित करने का प्रयास किया पर बात नहीं बनी तो लाठी चार्ज कर आपस में भिड़े भीड़ को खदेड़ा। 

आखिरी समय तक खरीद-फरोख्त से मामला गरमाया

जानकारी के मुताबिक मंझौली पंचायत में कुल 09 वार्ड है। यह प्रखंड का सबसे छोटा पंचायत भी है पर पूरे चुनाव में सबसे ज्यादा हॉट भी रहा।   उपमुखिया पद के लिए दो उम्मीदवारों ने प्रतिष्ठा का विषय बना रखा था। बताया गया कि एक के पास पहले से 05 सदस्य थे जिसे विपक्षी गुट ने अधिक रकम देकर अपने पाले में कर लिया। बताया गया कि पहले प्रति वार्ड सदस्य की बोली 20 हजार रूपये लगी थी। पांच सदस्य के साथ जीत के प्रति आश्वस्त उम्मीदवार के पाले से सदस्य को तोड़ने के लिए दूसरे उम्मीदवार ने रकम 30 हजार कर दी। दस हजार का इजाफा होते ही उधर से वार्ड सदस्य टूटकर आ गए। चुनाव के लिए ब्लॉक पहुंचने पर इस बात की पोल खुली। जानकारी मिली कि बीती रात्रि गुरुवार को पूर्व पक्षकारों ने उसे 30 हजार से अधिक राशि देकर अपने पक्ष में कर लिया। शपथ ग्रहण के दरम्यान सम्बन्धित बिक चुके वार्ड सदस्य जैसे ही कम्पाउंड में नजर आए विपक्षी गुट उसे खीचकर अपने खेमे में करना चाहा। इसी बात को लेकर दोनों गुट में भिड़ंत हो गई। वार्ड सदस्यों को बांह पकड़ कर दोनों तरफ से खींचा जा रहा था। ब्लॉक के निकट अजीबोगरीब नजारा था। लोकतंत्र व ग्राम स्वराज का नग्न दृश्य का लोग मजे ले रहे थे।

स्थिति विस्फोटक होने पर पुलिस सक्रिय हुई

शपथ ग्रहण व उप मुखिया, उप सरपंच के चुनाव को लेकर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए थे। बड़ी संख्या में पुलिस बलों की ब्लॉक ग्राउंड व बाहर तैनाती की गई थी। वार्ड सदस्यों की खींचतान, दोनों गुटों के बीच धक्का-मुक्की, मारपीट शुरू हो चुकी थी। शुरूआत में पुलिस तमाशबीन बनी रही। मारपीट, भगदड़ का माहौल बना तब पुलिस बलों ने बीचबचाव कर मामला शांत करना चाहा। तब तक स्थिति विस्फोटक हो चुकी थी। हालात अनियंत्रित होते देख पुलिस ने लाठियां भाजनी शुरू कर दी। थानाध्यक्ष धनंजय पांडेय, एसआई परशुराम सिंह, एएसआई शैलेंद्र कुमार  के नेतृत्व में पुलिस बलों ने  लाठी चार्ज कर भीड़ को तितरबीतर किया


Find Us on Facebook

Trending News