अभिनय आर्ट्स की नाट्य प्रस्तुति 'चुहल' में दिखा युवाओं को जीवन जीने का रास्ता, मणिकांत चौधरी ने किया निर्देशन

अभिनय आर्ट्स की नाट्य प्रस्तुति 'चुहल' में दिखा युवाओं को जीवन जीने का रास्ता, मणिकांत चौधरी ने किया निर्देशन

PATNA : पटना की चर्चित संस्था अभिनय आर्ट्स द्वारा नाटककार मानव कौल की सुप्रसिद्ध नाटक 'चुहल' की प्रस्तुति सोमवार को पटना के कालिदास रंगालय में किया गया। नाट्य प्रस्तुति कार्यक्रम के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में डॉ. अमृता, (अध्यापिका), जे.डी. वुमेन्स कॉलेज, पटना एवं ज्ञानस्थली इंटरनेशनल स्कूल के निदेशक रवि कुमार उपस्थित रहे। साथ ही प्रेक्षागृह में प्रथम दर्शक के रूप में अतिथि वैशाली रंगमंच के हस्ताक्षर एवं निर्माण रंगमंच के निर्देशक क्षितिज प्रकाश उपस्थित रहे।


बता दें कि नाट्य उद्घाटन समारोह के पश्च्यात संस्कृति मंत्रालय, नई दिल्ली, भारत सरकार  द्वारा आयोजित  पटना के कालिदास रंगालय में  नाटक 'चुहल' की सफल प्रस्तुति की गई। इस नाटक के निर्देशक मणिकांत चौधरी थे। निर्देशक मणिकांत चौधरी ने नाटक के माध्यम से युवाओं के व्यक्तिगत जीवन को बड़ी बारीकी से दर्शाने का एक सफल कार्य किया। जिससे युवाओं को अपने जीवन को सही तरीके से जीने का एक सफल और सकारात्मक राह अख्तियार हो सके।

कथासार

नाटक चुहल समाज के ऐसे मध्य वर्गीय परिवार की कहानी है। जहां हर मां-बाप की चिंता अपने बच्चों की शादी-विवाह कर निश्चिंत हो जाना होता है। लेकिन वर्तमान समय के बच्चे ऐसा नहीं चाहते। वे अपने जीवन को किसी तरह एडजेस्ट नहीं करना चाहते, बल्कि वो अपने जीवन को पूरी तरह सोच-समझ कर, जांच-परखकर ही नई दुनिया में कदम रखना चाहते हैं। आज के युवा हर चीज़ को बहुत गहराई से नाप-तौल कर देखना चाहते हैं। नाटक में आरती और सुधीर एक दूसरे में इसी बात को जानने के लिए एक चुहल खेलते हैं और दर्शक को भी इस खेल में अपने जीवन को समझने का मौका मिलता है।

पात्र परिचय

आरती की भूमिका में लाडली रॉय, सुधीर-मणिकांत चौधरी, आरती की मां-कुमारी अंजू, सुधीर की बहन-चित्रा पटेल, ऑफिस स्टाफ रमेश सिंह, निकेस कुमार हैं। वहीँ मंच पर प्रकाश डिज़ाइन राहुल कुमार रवि का, संगीत-मान्या राज लक्ष्मी, सेट-अंज़ारूल, वेशभूषा- रजनी कुमारी, मेकअप-सुमन कुमार ने किया।

Find Us on Facebook

Trending News