लूट मामले में पीड़ित ने दारोगा पर लगाया गंभीर आरोप, कहा- थर्ड डिग्री की धमकी देकर 7 लाख रुपये हड़प लिये, SSP से लगायी न्याय की गुहार

लूट मामले में पीड़ित ने दारोगा पर लगाया गंभीर आरोप, कहा- थर्ड डिग्री की धमकी देकर 7 लाख रुपये हड़प लिये, SSP से लगायी न्याय की गुहार

अलीगढ़. उत्तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ के थाना सिविल लाइन इलाके में हुई 9 लाख 50 हजार रुपया की लूट को पुलिस द्वारा 2 लाख 50 हजार रुपए की लूट बताकर खुलासा किया गया. एसएसपी कार्यालय पर शिकायत लेकर एसएसपी से शिकायत करने पहुंचे लूट के शिकार पीड़ित दंपति ने कोतवाली सिविल लाइन थाने में तैनात दारोगा पर लूट के 7 लाख रुपए हड़पने का आरोप लगाया है. वहीं पीड़ित का आरोप है कि उससे जबरन थाने के अंदर पुलिस कर्मियों द्वारा थर्ड डिग्री देने का खौफ दिखाकर जबरन ढाई लाख रुपए की लूट होने की तहरीर लिखवाई गई थी. वहीं पीड़ित ने लूटी गई रकम के 7 लाख रुपये कोतवाली में तैनात दरोगा द्वारा हड़पे जाने के बाद रुपये वापस कराने की गुहार अलीगढ़ के एसएसपी कलानिधि नैथानी से लगाई है.

अलीगढ़ के थाना सिविल लाइन पुलिस द्वारा लूट की रकम हजम करने की करतूत सामने आई है. यहां थाने में तैनात एसएसआई के द्वारा लूट के शिकार इंसान से 9 लाख 50 रुपये की लूट बताने पर गाली गलौज कर थाने के अंदर बंद कर हवालात में थर्ड डिग्री देने की बात कही गई. पीड़ित दंपत्ति को पुलिस का पूरी तरह से ख़ौफ दिखाते हुए धमकी दी गई. इसके बाद पुलिस ने जबरन 2 लाख 50 हजार रुपये लूट की रकम पुलिस की तरफ से थाने में दी गई. तहरीर में पीड़ित दंपत्ति से जबरन लिखवाई गई. इसके बाद थाने में तैनात एसएसआई के द्वारा 7 लाख रुपये हड़प लिए गए और मंगलवार को कोतवाली सिविल लाइन पुलिस ने 12 घंटे में लूट का खुलासा करते हुए आरोपियों को पकड़ ढाई लाख की लूट बताते हुए ढाई लाख की लूट का खुलासा किया गया था.

ढाई लाख रुपए की लूट की सच्चाई जब सामने आई तो बेहद ही चौंकाने वाली थी. इस सच्चाई ने उत्तर प्रदेश की पुलिस पर सवालिया निशान खड़े कर दिया तो वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा उत्तर प्रदेश को अपराध मुक्त करने के दावों की पुलिस कर्मियों द्वारा ही पोल खोल दी गई कि उत्तर प्रदेश के पुलिसकर्मी भी लूट करने वाले बदमाशों से कम नहीं है. यहां बदमाशों द्वारा लूट की घटना को अंजाम दिया गया था. वहीं अलीगढ़ की पुलिस भी वर्दी का खौफ दिखाकर लूट की एक बड़ी रकम को हड़पने का इल्जाम अलीगढ़ पुलिस की वर्दी पर दाग लगा है. बदमाशों द्वारा लूटे गए 9 लाख 50 हजार रुपये में से 7 लाख रुपया हड़पे जाने के बाद पीड़ित ने अलीगढ़ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी से मदद की गुहार लगाते हुए दिनदहाड़े रुपए हड़पने वाले पुलिसकर्मियों से रुपए वापस दिलाने की मांग की गई है.

जानकारी के अनुसार अलीगढ़ के एसएसपी कार्यालय पहुंचे पीड़ित दंपत्ति के द्वारा अलीगढ़ वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के नाम दी गई शिकायत में आरोप लगाया है कि बदरुद्दीन पुत्र अल्लाह महर निवासी हमदर्द नगर जमालपुर थाना सिविल लाइन रहने वाला है, जो पिछले काफी वर्षो से पशुओं खरीद-फरोख्त का व्यापार कर रहा है. सोमवार की शाम करीब 3:30 बजे अपनी पत्नी हीरा के साथ जोधपुर इलाका स्थित सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया पहुंचा था. इसके बाद बैंक से 2 लाख 70 रुपये निकाले गए, जिसमें 20000 रुपये जेब में रख लिया तो वहीं ढाई लाख रुपया बैग के अंदर रखे गए. इस बैंक के अंदर पहले से ही 7 लाख रुपये मौजूद थे, जो 7 लाख रुपये इसे सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया से दिनांक 10 सितंबर को निकाले गए थे.

कुल मिलाकर 9 लाख 50 हजार रुपये की रकम बदरुद्दीन ने बैग के अंदर रखने के बाद अपनी पत्नी हीरा को थमा दी, जिसमें से 7 लाख रुपए की रकम छतारी निवासी परवेज को सौंपने थी. इस रकम को देने के लिए बजरुदीन के पास बार-बार फोन आ रहा था. इसके बाद बैंक से निकाल पत्नी के हाथों में रुपयों से भरा बैग मोटरसाइकिल के बीच में रख कर दोनों पति पत्नी बैंक से वापस लौट कर अपने घर जा रहे थे. उसी दौरान सरोज हॉस्पिटल चौराहे के पास में पहले से उसकी मोटरसाइकिल का पीछा कर रहे मोटरसाइकिल सवार बदमाशों ने दंपत्ति की मोटरसाइकिल को रुकवाते ही बाइक सवार बदमाशों ने तमंचा निकाल पत्नी हीरा की कनपटी पर रख दिया.

इसके बाद बदमाश 9 लाख 50 हजार रुपयों से भरा छीन कर मौके से भाग गए. लूट की सूचना तत्काल कोतवाली सिविल लाइन पुलिस को दी गई. इलाके में हुई लूट की सूचना मिलते ही कोतवाली सिविल लाइन में तैनात एसएसआई श्रवण कुमार यादव पुलिस कर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे. मौके पर पहुंचे एसएसआई श्रवण कुमार यादव ने बैंक पर लगे सीसीटीवी फुटेज के आधार पर लूट करने वाले आरोपियों को गिरफ्तार तक पहुंच गए और बरूला मार्केट के पास स्थित नूर मंजिल वाली गली से लूट करने वाले अपराधियों को गिरफ्तार करते हुए रुपयों से भरे बैग को बरामद कर लिया गया था.

पीड़ित बजरुदीन का आरोप है कि उसके द्वारा पुलिस को 9 लाख 50 हजार रुपये की लूट बताई गई थी. लेकिन थाने में तैनात एसएसआई श्रवण कुमार यादव के द्वारा अपना मुंह बंद रखने और थर्ड डिग्री देने सहित गाली गलौज कर थाने में बंद करने की धमकी तक दी गई और इसके साथ ही एसएसआई ने कहा जो मैं अपराधी के साथ कर सकता है, वही काम में तेरे साथ भी कर सकता हूं. साथ ही कहा केवल 2 लाख 50 हजार रुपये की ही रकम मिलेगी और 2 लाख 50 हजार रुपये लूट की रकम पुलिस की तरफ से जबरन लिखवाई गई.

Find Us on Facebook

Trending News