जिस महिला के नाम पर छह माह पहले जारी किया डेथ सर्टिफिकेट, उसे अब लगा दिया वैक्सीनेशन का सेंकेंड डोज, सर्टिफिकेट भी किया जारी

जिस महिला के नाम पर छह माह पहले जारी किया डेथ सर्टिफिकेट, उसे अब लगा दिया वैक्सीनेशन का सेंकेंड डोज, सर्टिफिकेट भी किया जारी

PATNA : एक तरफ भारत सरकार कोरोना वैक्सीनेशन के एक अरब डोज लगाने को लेकर बड़े कार्यक्रम की तैयारी में जुटी है। वहीं दूसरी तरफ वैक्सीनेशन में किस प्रकार की लापरवाही बरती जा रही है, इसका एक प्रमाण भी सामने आ गया है। भारत की स्वास्थ्य विभाग ने एक ऐसी महिला को कोरोना का सेकेंड डोज लगा दिया है, जिसकी मौत छह माह पहले ही हो चुकी है। यहां तक कि उसके नाम का डेथ सर्टिफिकेट भी जारी हो चुका है। लेकिन मौत के छह माह बाद स्वास्थ्य विभाग ने महिला को सेकेंड डोज दिया है और उसके नाम का वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट भी जारी कर दिया है। 

मामाला दानापुर के नासरीगंज से जुड़ा है। यहां रहनेवाली 51 वर्षीय अंजना देवी की मौत कोरोना की वजह से छह माह पहले 26 अप्रैल को हो गई था। लेकिन इस मृत के मोबाइल पर बीते 18 अक्टूबर को कोरोना वैक्सीनेशन की की वजह से छह माह पहले हो गई थी। 18 अक्टूबर को उनके मोबाइल पर कोरोना टीका की दूसरी डोज लगवाने का मैसेज आया। उनके बेटे सोनु कुमार ने बताया कि मैसेज आया, तो वे दंग रह गए। पूरे परिवार में यह चर्चा का विषय बन गया।  वैक्सीनेशन के फाइनल सर्टिफिकेट में टीकाकरण स्थल का भी जिक्र है। सुचित्रा कुमारी ने पटना सदर पीएचसी में मृत महिला को टीके की दूसरी डोज लगाई, जिसका जिक्र सर्टिफिकेट में है। 

मौत से 15 दिन पहले लिया था वैक्सीन का पहला डोज, अधिकारी ने बताया पोर्टल एरर

बेटे ने बताया कि उनकी मां की मृत्यु कोविड टीका लेने के ठीक 15 दिन बाद कोरोना की वजह से पाटलिपुत्र के सीएनएस हॉस्पिटल में हुई थी। कोविशील्ड की पहली डोज उन्हें 11 अप्रैल को लगी थी। जबकि, उनकी मौत 26 अप्रैल को हुई। इस संबंध में पूछे जाने पर डिस्ट्रिक्ट इम्युनाइजेशन ऑफिसर डॉ. एसपी विनायक ने कहा कि पोर्टल एरर हो सकता है या एक ही मोबाइल नंबर पर तीन-चार रजिस्ट्रेशन होने से भी कभी-कभी ऐसी गड़बड़ी सामने आ जाती है। इसकी जानकारी लेकर स्थिति साफ की जाएगी। जो भी दोषी होगा, उसपर कार्रवाई की जाएगी।


 

Find Us on Facebook

Trending News