लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी नहीं खुला नौलखा मंदिर का पट, निराश होकर लौटते हैं श्रद्धालु

लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी नहीं खुला नौलखा मंदिर का पट, निराश होकर लौटते हैं श्रद्धालु

GAYA : कोरोना काल में लॉक डाउन के दौरान देश में लगभग सभी बड़े धार्मिक स्थानों को बंद करने का आदेश जारी किया गया था l जिससे कोरोना संक्रमण को रोका जा सके l लेकिन कोरोना काल के खत्म होने के बाद आम जन जीवन पटरी पर आ रहा है l सभी स्कूल, कॉलेज, पार्क और सिनेमा हाल खुल गए हैं l यहाँ तक की धार्मिक स्थान भी खुल गए हैं l 

भारत- थाई मैत्री संबंधों का प्रतीक बोधगया स्थित नौलखा मंदिर को 2020 में कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर बंद किया गया था l लेकिन अनलॉक होने के बाद भी अभी तक श्रद्धालुओं के लिए मंदिर को नहीं खोला गया है l आज भी मंदिर के बाहर से दर्शन कर श्रद्धालु वापस लौट जाते हैं l मंदिर के मुख्य द्वार के पास जाली लगा देने से श्रद्धालु बाहर से भगवान बुद्ध को नमन कर वापस लौट जाते हैं l मंदिर की देखरेख करने वाले बौद्ध भंते पत्रकारों को देख सामने नहीं आतेl जिससे मंदिर के बंद होने के कारणों का पता नहीं चल पाता है l  

लेकिन मिली जानकारी के अनुसार विदेशी पर्यटकों के बोधगया आने में कमी के चलते मंदिर आम श्रद्धालुओं के लिए नहीं खोला गयाl  जानकारी हो कि भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर नेहरू ने भारत - थाई मैत्री संबंध को प्रगाढ़ करने के लिए इस मंदिर का उद्घाटन किया था। इस तरह मंदिर का काफी महत्व माना जाता है l 

बोधगया से संतोष की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News