31 जनवरी तक जेल बंदियों से नहीं मिल पाएंगे उनके परिजन, बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर आदेश जारी, उल्लंघन पर होगी सख्त कार्रवाई

31 जनवरी तक जेल बंदियों से नहीं मिल पाएंगे उनके परिजन, बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर आदेश जारी, उल्लंघन पर होगी सख्त कार्रवाई

पटना. बिहार में लगातार कोरोना वायरस संक्रमण बढ़ रहा है. इसको देखते हुए बिहार के जेलों में कैदियों से मुलाकात पर पाबंदी लगा दी गयी है. वहीं आदेश का उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. इसको लेकर जेल आईजी ने आदेश जारी किये हैं. यह आदेश 31 जनवरी 2022 तक प्रभाव में रहेगा.

आदेश में कहा गया है कि वर्तमान में बिहार में करोना की तीसरी लहर का खतरा बढ़ता जा रहा है. संक्रमित व्यक्तियों की संख्या में पिछले एक सप्ताह से लगातार तेजी वृद्धि दर्ज की जा रही है. ऐसे में आवश्यक है कि राज्य की काराओं में बंदियों में कोरोना वायरस की तीसरी लहर को रोकने एवं उससे बचाव के लिए समाजिक दूरी का पालन किया जाए. इस कड़ी में जेल में बंद बंदियों से मिलने के लिए बाहर से आए लोगों पर प्रतिबंध लगाया जाए.

पूर्व सीएम परिवार समेत पॉजिटिव

बिहार के पुर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के घर में कोरोना विस्फोट हो गया है. जीतन राम मांझी व उनके परिवार समेत 18 लोग कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं. जानकारी के अनुसार बिहार के पूर्व सीएम और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी, उनकी पत्नी शांति देवी, बेटी पुष्पा मांझी, बहू दीपा मांझी और पीए गणेश पंडित सहित उनके घर में 18 लोग कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं. कोरोना रिपोर्ट आने के बाद सभी आइसोलेट हो गये हैं.

जनता दरबार में 6 फरियादी पॉजिटिव 

बिहार में एक बार कोरोना विस्फोट शुरू हो गया है. प्रदेश में लगातार कोरोना वायरस संक्रमण का मामला सामने आ रहा है. बिहार में कोरोना संक्रमण का ये हाल है कि अब मुख्यमंत्री के जनता दरबार तक पहुंचने लगा है. सोमवार को आज जनता दरबार में अपनी शिकायत लेकर आये 6 फरीयादी कोरोना पॉजिटिव पाये गये. इससे वहां हड़कंप मच गया है. जनता दरबार के तुरंत बाद सीएम एक्शन लेना पड़ा. इस बीच सीएम नीतीश ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि जनता दरबार में सूचिबद्ध हुए लोगों की पहले ही कोरोना जांच करवाई जाती है. इसमें 186 लोग पॉजिटिव पाये गये. इसे जनता दरबार आने की अनुमति नहीं दी गयी. वहीं जनता दरबार के अंदर भी 6 फरीयादी कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं. उन्होंने कहा कि इस जल्द ही कोई एक्शन लिया जाएगा.

आंकड़ों के मुताबिक, पिछले साल के अंतिम दिन यानी 31 दिसंबर को राज्य भर में 158 मामले सामने आए थे, जबकि इस साल के पहले दिन 281 नए मामलों की पुष्टि हुई थी. वहीं बिहार के स्वस्थ्य विभाग द्वारा जारी रविवार के आंकड़े के अनुसार बिहार में 352 कोरोना मरीज पाये गये थे. वहीं एनएमसीएच में रविवार को 194 लोगों की आरटीपीसीआर जांच में 84 चिकित्सक कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं. एक साथ इतनी बड़ी संख्या में डॉक्टरों के कोरोना संक्रमित होने से अस्पताल में हड़कंप मच गया है.

Find Us on Facebook

Trending News