गंगा के जलस्तर मे आयी गिरावट, दियारा एवं तटीय इलाकों से निकला बाढ़ का पानी, लेकिन अब बीमारी फैलने का है डर

गंगा के जलस्तर मे आयी गिरावट, दियारा एवं तटीय इलाकों से  निकला बाढ़ का पानी, लेकिन अब बीमारी फैलने का है डर

CHHAPRA :  गंगा नदी के जलस्तर मे आयी गिरावट के बाद   जिले के सदर प्रखंड अंतर्गत दियारा के रायपुर विंदगावां ,कोटवा पट्टी रामपुर तथा बरहरा महाजी पंचायतों से बाढ़ का पानी निकल चुका है लेकिन इनकी समस्याएं अभी ज्यादा खराब होने लगी जो जहां है वहीं रह रहा है क्योंकि इधर उधर आना जाना बहुत मुश्किल का काम है वही बाढ़ से जुड़े रहने के कारण मिट्टी से कीचड़  की महक जानवरों के मृत शरीर की बदबू उन्हें परेशान कर रही है। दियारा सहित तटीय इलाकों से पानी निकल गया है लेकिन अब कीचड़ की समस्या कुछ दिनों तक बनी रहेगी जो लोगो के लिए एक समस्या है । इस स्थिति मे इन इलाकों मे बीमारी फैलने की आशंका बनी रहेगी। 

गंगा के जलस्तर मे करीब पांच फुट से अधिक तक की कमी आयी है जिससे दियरा के कोटवापट्टी रामपुर , बड़हारा महाजी एवं रायपुर बिंदगावा सहित तटीय इलाकों चिरांद , डोरीगंज, सिंगही , डुमरी , मुसेपुर आदि गाँवों मे से कुछ गाँवों से पानी पूर्णत: निकल चुका है वही कुछ गांवों से पानी तेजी से निकल रहा है। पानी निकलने के बाद लोग अपनी घरों की साफ सफाई मे लग गए है। घरों मे पानी प्रवेश कर जाने से लोगों को घर कीचड़ मे तब्दील हो गए है। जिसकी सफाई मे लोग लग गए है।

वहीं नए इलाकों जलालपुर पंचायत के मानुपुर जहांगीर , गरखा प्रखण्ड के मीरपुर जुअरा , कोठिया , परानराय का टोला आदि गाँवों मे बाढ़ का पानी आना कम हुआ है  लेकिन स्थिति यथावत बनी हुई है । पानी स्थिर हो गयी है।

बीमारी को ले दियारा एवं तटीय इलाकों में अब हेल्थ कैंप लगाने की आवश्यकता -: 

गंगा नदी का जलस्तर तेजी से कम हो रहा है और उसकी तेजी से बीमारी भी फैलने की आशंका है ऐसे में स्वास्थ्य व  स्वास्थ्य विभाग को चाहिए कि टीम बनाकर अलग-अलग पंचायतों में स्वास्थ्य शिविर डीडीटी का छिड़काव ब्लीचिंग पाउडर तथा जानवरों द्वारा हमले किए गए लोगों की इलाज की व्यवस्था की जानी चाहिए ताकि लोग स्वस्थ रह सकें।

Find Us on Facebook

Trending News