सरदार वल्लभभाई पटेल के जन्मोत्सव पर वक्ताओं ने कहा, लौह पुरुष जैसे व्यक्तितत्व और नेतृत्व की कमी खटक रही है

सरदार वल्लभभाई पटेल के जन्मोत्सव पर वक्ताओं ने कहा, लौह पुरुष जैसे व्यक्तितत्व और नेतृत्व की कमी खटक रही है

BETTIAH : सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्मोत्सव बेतिया में राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया गया। विश्व कुर्मी विकास परिषद की स्थानीय शाखा के तत्वावधान में बानुछापर, संत कबीर रोड स्थित एक निजी सभागार में आयोजित समारोह का उद्घाटन बेतिया नगर निगम की पूर्व अध्यक्ष सभापति गरिमा देवी सिकारिया ने किया। 

इस मौके पर उन्होंने कहा कि आज भारतवर्ष की एकता व अखंडता के प्रतिकूल अनेक शक्तियां राष्ट्रीय एकता और सामाजिक भाईचारे के लिये बड़ी चुनौती बन गयीं हैं। जिसके कारण देश के लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल जैसे एक दृढ़ इच्छाशक्ति वाले व्यक्तितत्व और नेतृत्व की कमी खटक रही है। क्योंकि आजादी के बाद के कठिन परिवेश में अपनी दृढ़ इच्छा शक्ति, नेतृत्व कौशल के बूते सरदार पटेल ने अलग राग अलाप रहीं देश की तत्कालीन 565 देशी रियासतों का विलय भारतीय संघ में करा दिया था। 

सिकारिया ने कहा की इसी दृढ़ता के कारण भारत के प्रथम गृह मंत्री और प्रथम उप प्रधानमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष का दर्जा प्राप्त हुआ। साहसिक कार्यों की वजह से ही उन्हें लौह पुरुष और सरदार जैसे विशेषणों से नवाजा गया। सिकारिया ने कहा कि हमारे आज के राजनेताओं को सरदार पटेल के कृतित्व व्यक्तित्व का अनुसरण करना चाहिए। इस मौके पर कई गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

बेतिया से आशीष कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News