सरकारी अस्पतालों की हालत में सुधार नही ! डिलीवरी के लिए आई प्रसुता और बच्चे की मौत, प्रसव कराने की जगह टहलाते रहे डॉक्टर

 सरकारी अस्पतालों की हालत में सुधार नही ! डिलीवरी के लिए आई प्रसुता और बच्चे की मौत, प्रसव कराने की जगह टहलाते रहे डॉक्टर

AURANGABAD : बीती रात प्रसव के लिए आई एक महिला की मौत हो गई। मृतका गीतांजली देवी नबीनगर के टंडवा थाना के रामसागर गांव निवासी रवि कुमार की पत्नी थी। मृतका के पति ने बताया कि पत्नी का मायका जम्होर थाना के बैदाही गांव में है। 

बताया गया कि गर्भवती होने के बाद से उसकी पत्नी मायके में ही रह रही थी।  कहा कि कल सुबह करीब 9 बजे उसकी पत्नी को प्रसव पीड़ा हुई। इसके बाद परिजन उसे लेकर ओबरा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने बोला कि अभी डिलीवरी नहीं होगी। घर ले जाईए, लेकिन हमलोगों ने सोचा कि घर ले जाने के बाद दर्द बढ़ने पर दिक्कत होगी। इसलिए रूक गए। फिर रात 9 बजे दर्द शुरू हुआ। इसके बाद डॉक्टरों द्वारा बोला गया कि प्रसव होगा। इधर-उधर टहलाइए। दर्द के बीच हमलोगों ने इधर-उधर टहलाया, लेकिन प्रसव नहीं हो रहा था। दर्द बढ़ता जा रहा था। 

डॉक्टर से बोलने पर बोला गया कि घबराइए नहीं, बच्चा पुष्ट है। इसलिए दिक्कत हो रहा है। धीरे-धीरे लगातार स्थिति बिगड़ने लगी। जब उनलोगों ने दबाव बनाया तो डॉक्टरों ने सदर अस्पताल रेफर कर दिया। इसके बाद सदर अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने जांच के बाद मृत घोषित कर दिया। 

घटना के बाद से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। गांव में मातम पसरा हुआ है। परिजनों ने ओबरा प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र के डॉक्टर पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है।


Find Us on Facebook

Trending News