100 दिन के महागठबंधन की सरकार के नाम कोई नई उपलब्धि नहीं, सिर्फ पुराने काम को अपना बताकर चेहरा चमकाते रही नीतीश-तेजस्वी की जोड़ी

100 दिन के महागठबंधन की सरकार के नाम कोई नई उपलब्धि नहीं, सिर्फ पुराने काम को अपना बताकर चेहरा चमकाते रही नीतीश-तेजस्वी की जोड़ी

PATNA : बिहार की महागठबंधन सरकार के सौ दिन पूरे  हो गए हैं, इस दौरान नीतीश सरकार के काम का लेखा जोखा भाजपा की तरफ से प्रस्तुत किया गया है।  बिहार विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष, सम्राट चौधरी ने महागठबंधन सरकार के 100 दिन पूरे होने पर नीतीश सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया है। गुजरात चुनाव में भाजपा के लिए प्रचार करने गए भाजपा नेता ने कहा कि नीतीश कुमार जी ने जब से NDA से अलग होकर राजद के साथ सरकार बनायी है, तब से राज्य में कोई काम नहीं हुआ है। श्री चौधरी ने कहा कि यही नहीं नीतीश जी जिस दिन से सजायाफ्ता लालू यादव जी की गोद में बैठकर उनके बेटे के साथ सरकार बनायी तभी से RJD  के पग चिह्न पर दौड़ने लगे और 100 दिन में बैक- टू- बैक आधा दर्जन से अधिक नियुक्ति घोटाला किया। 

सम्राट चौधरी ने नीतीश सरकार के फर्जीवाड़े पर हमला बोलते हुए कहा कि 9 नवंबर 2022 को सरकार ने पंचायती राज विभाग के जिन 3127 पंचायत सचि वों को नियुक्ति पत्र दिया। उसका 26 जून को ही रिजल्ट आ गया था। 15 जुलाई को विभाग द्वारा जॉइनिंग लेटर का आदेश भी निकाल दिया गया। लेकिन फिर भी नीतीश- तेजस्वी ने अपनी सस्ती लोकप्रियता के कारण युवाओं के साथ भद्दा मजाक किया। उन्होंने सरकार के घोटाले की गिनती करवाते हुए कहा कि यहीं नहीं नीतीश कुमार जी ने 20 सितंबर 2022 को जिन राजस्व कर्मचारियों को नियुक्ति पत्र दिया उसका पूरा ब्योरा 2 अगस्त को ही सम्बंधित विभाग की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया गया था। जिसके बाद हमारे पार्टी के नेता और विभाग के पूर्व मंत्री ने जिलाधिकारी के माध्यम से सभी को नियुक्ति पत्र देकर 8 अगस्त को कर्मचारियों को जिला अलॉट करा दिया। लेकिन नीतीश जी ने फिर से सभी कर्मचारियों के साथ गंदा मजाक किया।


स्वास्थ्यकर्मी और पुलिसकर्मियों के साथ भी सरकार ने की गंदी मजाक- सम्राट चौधरी

सीएम नीतीश- तेजस्वी की ओर से फर्जी तरीके से 22 अक्टूबर को 9469 स्वास्थ्य कर्मियों को नियुक्ति पत्र बांटे जाने पर भी नेता प्रतिपक्ष सम्राट चौधरी ने सरकार पर निशाना साधा है और कहा कि जिन-जिन पदों पर नियुक्ति पत्र बांटे गए हैं उसकी पूरी प्रक्रिया एनडीए के कार्यकाल में ही पूरी हो चुकी थी। श्री चौधरी ने कहा कि हमारे पार्टी के नेता और पूर्व मंत्री के कार्यकाल में ही एएनएम के 8517, जिला कम्युनिटी मोबिलाइजर के 26, सीनियर ट्रीटमेंट सुपरवाइजर के 190 और काउंसलर के 579 पदों के लिए परीक्षा हुई और 30 जुलाई 2022 को इसका रिजल्ट प्रकाशित कर दिया गया था। लेकिन फिर भी 22 अक्टूबर को 9469 स्वास्थ्य कर्मियों को नियुक्ति पत्र देकर सबके साथ घिनौना मजाक हुआ।

 श्री चौधरी ने बीते दिन 14 नवंबर को जल संसाधन विभाग की ओर से 1006 लोगों को नियुक्ति पत्र देने पर भी सीएम नीतीश को कटघरे में खड़ा कर दिया और बताया कि इसकी बहाली बिहार कर्मचारी चयन आयोग द्वारा 2014 में ही हो गई थी। जिसकी पूरी प्रक्रिया 26 जून को खत्म हो गई थी। फिर भी आनन-फानन  महागठबंधन की सरकार ने 14 नवंबर 2022 को नियुक्ति पत्र दे दिया। श्री चौधरी ने 16 नवंबर को गांधी में 10,459 पुलिसकर्मियों को नियुक्ति पत्र देने के मामले में कहा कि जो पुलिसकर्मी जुलाई महीने से योगदान दे चुके हैं। उनकी ड्यूटी भी लगी है और वेतन भी मिल रहा है। इनकी बहाली 2022 के मई और जून में ही हो गई थी फिर भी नीतीश जी ने इन्हें दोबारा कागज थमा दिया। सम्राट चौधरी ने कहा कि नीतीश जी अभी से चेत जाइए जनता सब कुछ समझ चुकी है। आने वाले दिनों में सबका हिसाब देना पड़ेगा ।

केंद्र सरकार ने बिहार में बिछाया फोरलेन का जाल- सम्राट चौधरी

केंद्र सरकार की ओर से बिहार के विकास के लिए 1 लाख दस हजार करोड़ की राशि दिए जाने पर नेता प्रतिपक्ष सम्राट चौधरी ने उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से सवाल किया है साथ ही श्री चौधरी ने बक्सर में 1000 करोड़ से अधिक की लागत से दो महत्वपूर्ण सड़क परियोजनाओं के लोकार्पण और रोहतास में सोन नदी पर पुल के शिलान्यास के लिए केंद्रीय पथ निर्माण मंत्री नितिन गडकरी के प्रति आभार प्रकट करते हुए और कहा कि तेजस्वी यादव आंख खोल कर देख लें, अब तक आपने बिहार के लोगों के लिए जो नहीं किया वो नरेंद्र मोदी सरकार कर के दिखा रही है।

जनता को गुमराह करने मे लगी महागठबंधन सरकार 

आप राज्य की जनता को झूठी बात बोलकर गुमराह करते हैं कि मोदी सरकार कुछ नहीं कर रही है। और पीएम मोदी की सरकार बिहार में लगातार सड़कों का जाल बिछा रही है। श्री चौधरी ने नीतीश-तेजस्वी से सवालिया लहजे में पूछा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने 8000 करोड़ रुपये खर्च कर बरौनी खाद कारखाने का आधुनिकीकरण किया और फिर से उसे चालू करवाकर उत्पादन शुरू कराया लेकिन बिहार के लिए आप लोगों ने क्या किया? सम्राट चौधरी ने कहा कि केंद्र सरकार राज्य में तीन ग्रीन फील्ड प्रोजेक्ट और 4000 करोड़ की लागत के चार एक्सप्रेस-वे बना रही है। उन्होंने कहा कि 2024 तक 3 लाख करोड़ की कई योजनाएं पूरी हो जाएंगी, लेकिन फिर भी नीतीश कुमार बिहार के तेज विकास में मोदी सरकार के अहम योगदान को फर्जी तरीके से खारिज करते रहेंगे?


Find Us on Facebook

Trending News