जातीय जनगणना का श्रेय लेने के लिए मची होड़, सुशील मोदी बोले- भाजपा ने कभी नहीं किया विरोध, जदयू-बीजेपी की सरकार ने ही लाया प्रस्ताव

जातीय जनगणना का श्रेय लेने के लिए मची होड़, सुशील मोदी बोले- भाजपा ने कभी नहीं किया विरोध, जदयू-बीजेपी की सरकार ने ही लाया प्रस्ताव

पटना. बिहार में जातीय जनगणना का श्रेय लेने के लिए राजनीतिक दलों में होड़ मची है। इसको लेकर जमकर सियासत भी हो रही है और वार पटलवार भी हो रहे हैं। इस बीच बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने कहा है कि भाजपा जातीय जनगणना के विरोध में नहीं रही है, बल्कि भाजपा ने हमेशा समर्थन ही किया है। उन्होंने कहा कि बिहार विधानसभा और विधान परिषद में दो-दो बार सर्वसम्मत प्रस्ताव भाजपा की सहमति एवं भाजपा जदयू की सरकार के कार्यकाल में ही पारित हुआ। इस दौरान उन्होंने राजद और कांग्रेस पर हमला भी बोला। उन्होंने राजद कांग्रेस पर निशाना साधाते हुए कहा कि कहा कि राजद-कांग्रेस के कार्यकाल में कभी प्रस्ताव क्यों नहीं आया?

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र और उड़ीसा विधानसभा से भी सर्व सम्मत प्रस्ताव पारित हुआ, जहां भाजपा महत्वपूर्ण दल था। यदि भाजपा विरोध में होती तो भाजपा कभी अपने वरिष्ठ मंत्री जनक राम एवं झारखंड में प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश को प्रधानमंत्री से मिलने वाले सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल में शामिल नहीं कराती।

उन्होंने कहा कि राजद तो 2004 से 2014 तक केंद्र सरकार में शामिल थी तो उसने 2011 की जनगणना में जाति का एक कॉलम क्यों नहीं जुड़वाया?  भाजपा यदि विरोध में होती तो 2011 की सामाजिक आर्थिक जातिय जनगणना केंद्र के लिए कराना असंभव हो जाता। राजद अनावश्यक श्रेय लेने का प्रयास ना करें। इसका इतिहास तो रहा है कि पंचायत और नगर निकाय चुनाव में पिछड़ों को बिना आरक्षण दिए चुनाव करा दिया था।

Find Us on Facebook

Trending News