सीएम नीतीश के दरभंगा पहुँचने के पहले हुआ बवाल तो लालू की बेटी ने खोला मोर्चा

सीएम नीतीश के दरभंगा पहुँचने के पहले हुआ बवाल तो लालू की बेटी ने खोला मोर्चा

पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शुक्रवार को मधुबनी में विकास कार्यों का शुभारम्भ और आधारशिला रखने पहुंचे. उनके वहां पहुंचने के पूर्व दरभंगा में एम्स निर्माण को जल्द से जल्द पूरा कराने की मांग कर रहे छात्र संगठनों के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई की और कई छात्रों को हिरासत में लिया. 

मिथिला स्टूडेंट से जुड़े छात्र सीएम नीतीश कुमार का ध्यान दरभंगा एम्स के जल्द निर्माण की ओर आकर्षित करने के लिए जुटे थे. छात्र संगठन के कार्यकर्ता आज सीएम से मिलकर उन्हें ईंट और शिलापट्ट देना चाहते थे ताकि सीएम को इस पर गम्भीरता दिखाएँ और AIIMS का निर्माण जल्द हो. हालाँकि नीतीश कुमार के वहां पहुँचने के पूर्व ही पुलिस ने उन कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया. 

अब इस मुद्दे पर राजद सुप्रीमो लालू यादव की बेटी रोहिणी आचार्य ने राज्य सरकार की आलोचना की है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, तीन नंबरी पार्टी के मुखिया को एम्स के निर्माण से कोई मतलब नहीं है. इनका मुख्य काम है- झूठ बोलना, बिहार को बर्बाद करना, शराबबंदी के नाम पर ग़रीबों को परेशान करना, किसानों की ख़िलाफ़त करना, बहती लाशों पर चुप रहना, बिहारियों को ठगना, कोरोना के वक्त लोगों को मरते छोड़ देना.

इसके पूर्व भी रोहिणी आचार्य ने शराबबंदी को लेकर राज्य सरकार की आलोचना की थी. पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने शराबबंदी पर कहा था कि बिहार में जज, IAS, IPS, डॉक्टर, इंजीनियर और सभी धनवान लोग रात 10 बजे के बाद शराब पीते हैं. इसलिए गरीबों को उनसे सीख लेनी चाहिए. गरीबों को मांझी ने सलाह दी थी कि- लिमिट में शराब पियो और पीकर बाहर मत घूमो.

मांझी के बयान का समर्थन करते हुए रोहिणी ने कहा, बिहार पुलिस IAS, जज,बड़े नेता के बेडरूम या बाथरूम में चेक करने नही जाती, ये सब नियम सिर्फ़ ग़रीबों के लिए है. दुल्हन के रूम में चेक करने पहुँच जाते हो. हिम्मत है तो करे रात में तलाशी, धनवान,जज IAS, IPS जेल में होगा.



Find Us on Facebook

Trending News