झारखंड में पेट्रोल-डीजल के लिए मचा हाहाकार, कहीं रुकी गाड़ी तो कहीं कल-कारखाने

झारखंड में पेट्रोल-डीजल के लिए मचा हाहाकार, कहीं रुकी गाड़ी तो कहीं कल-कारखाने

रांची. झारखंड में मंगलवार को पूरे दिन पेट्रोल और डीजल के लिए हाहाकार मचा रहा. राज्य में पेट्रोल पंपों की एक दिनी हड़ताल के कारण लोगों को यह परेशानी झेलनी पड़ी. झारखंड पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन की ओर से डीजल पर वैट घटाने समेत अन्य मांगों को लेकर मंगलवार को हड़ताल बुलाई गई. 

एसोसिएशन ने सरकार से डीजल पर वैट 22 फीसदी से 17 फीसदी करने व सरकारी बकाया भुगतान की मांग की है. इसी को लेकर राज्य भर के पेट्रोल पंप मंगलवार को बंद रहे. पम्पों पर नो सेल, नो परचेज का पोस्टर चिपकाया गया. न सिर्फ रांची बल्कि जमशेदपुर, धनबाद, बोकारो, कोडरमा सहित सभी जिलों के सारे पेट्रोल पंप के बाहर रस्सी से घेराबंदी कर हड़ताल में बंदी को समर्थन दिया गया. 

वहीं पेट्रोल पम्पों की हड़ताल के कारण पूरे राज्य में कई प्रकार सेवाएं पूरे दिन अव्यवस्थित हो गई. खासकर कई लोगों को वाहनों में डीजल-पेट्रोल नहीं होने से आवागमन के लिए अन्य विकल्पों का सहारा लेना पड़ा या फिर उन्होंने अपनी यात्रा केंसिल कर दी. वहीं अन्य राज्यों से झारखंड पहुंचने वाले लोगों को और ज्यादा परेशानी हुई. बिना तेल के कारण ऐसे कई वाहन रहे जो जहाँ तहां वाहन रोके दिखे. 

इसी तरह कुछ कम्पनियों को भी पेट्रोल पम्पों की हड़ताल का दंश झेलना पड़ा. झारखंड पेट्रोलियम डीलर्स के आह्वान पर आहूत हड़ताल में राज्य में वैट को 22 फीसदी से घटाकर 17 फीसदी करने की मुख्य मांग है. वहीं 40 करोड़ सरकारी बकाये का भुगतान 10 दिन भीतर करने की मांग की गई है.  



Find Us on Facebook

Trending News