भारत-चीन के बीच तीसरे दौर की बातचीत, कल चुशूल में हो सकती है बैठक

भारत-चीन के बीच तीसरे दौर की बातचीत, कल चुशूल में हो सकती है बैठक

DESK: भारत और चीन सीमा का विवाद चरम पर पहुंच चुका है.चीन एक ओर भारत से शांति की बात करने का दावा कर रहा है तो दूसरी ओर सीमा पर बड़ी संख्‍या में सैनिकों की तैनाती भी कर रहा है. 15 जून को गलवान घाटी में चीन की तरफ से धोखेबाजी करने के बाद की बार दोनों देशों मे बातचीत हुई लेकिन हर मुलाकात बेनतीजा निकला.

अब खबर आ रही है कि मंगलवार को तीसरे दौर की बातचीत हो सकती है. खबर है कि लद्दाख के चुशुल में मंगलवार सुबह 10:30 बजे कोर कमांडर-स्तरीय वार्ता का तीसरा दौर होगा. मालूम हो वास्तविक नियंत्रण रेखा के चीनी साइड में मोल्दो में पहले दो राउंड की वार्ता हो चुकी है.इससे पहले भारत ने चीन को आगाह किया है कि बलप्रयोग करके यथास्थिति को बदलने की कोशिश न केवल सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति को नुकसान पहुंचाएगी बल्कि इसके परिणाम व्यापक द्विपक्षीय संबंधों पर भी पड़ सकते हैं और बीजिंग को पूर्वी लद्दाख में अपनी गतिविधियों को रोक देना चाहिए.

गौरतलब है कि चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिकों के की शहादत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सेना को खुली छूट दे दी है कि सीमा पर कोई भी गतिविधि का मुंहतोड़ जवाब दें. इसके साथ भारत के राजदूत विक्रम मिसरी ने भी साफ शब्दों में चीन को बता दिया है कि चीन चालाकी करने की कोशिश न करे. अपने सैनिकों को वापस बुलाए. भारत शांति चाहता है लेकिन अगर भारत को उकसाया जाएगा तो भारत चुप नहीं बैठेगा.

वहीं आपको जानकर हैरानी होगी की जो चीन भारत के खिलाफ साजिश रच रहा है  वहां के आम नागरिक ही इसका विरोध कर रहे हैं. चीनी नागरिक खुल कर अपनी सरकार को फटकार लगा रहे हैं. उनका कहना है कि भारत हमारा मित्र है. इसलिए चाईना को भारत के साथ समझौता कर लेना चाहिए. कुछ लोगों ने तो यहां तक कहा कि अगर भारत ने चीनी सामानों का बहिष्कार कर दिया चाईना की आधी आबादी भूखी मर जाएगी. लेकिन शायद बात चाईना के राष्ट्रपती को समझ नहीं आ रही है. वैसे अब देखना होगा कि इस बातचीत में क्या फैसला लिया जाता है.


Find Us on Facebook

Trending News