करोड़पति निकली बिहार की यह सीडीपीओ, आर्थिक अपराध ईकाई की छापेमारी में हुआ खुलासा

करोड़पति निकली बिहार की यह सीडीपीओ, आर्थिक अपराध ईकाई की छापेमारी में हुआ खुलासा

PATNA : बिहार में भ्रष्ट तरीके से संपत्ति अर्जित कर धनकुबेर बने अफसरों के खिलाफ निगरानी, विशेष निगरानी और आर्थिक अपराध इकाई (EOU Raid) की कार्रवाई लगातार जारी है.  जिसमें अब तक एक दर्जन से अधिक प्रशासनिक अधिकारियों के पास से करोड़ों की संपत्ति का खुलासा हो चुका है। इस इसी कड़ी में मंगलवार को स्पेशल विजलेंस यूनिट (Special Vigilance Unit) ने पटना के धनरूआ प्रखंड में पदस्थापित सीडीपीओ ज्योति कुमारी (Dhanarua CDPO) के ठिकानों पर छापेमारी की है.। ज्योति कुमारी पर आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का आरोप है. धनरुआ जिला पटना के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के कब्जे के लिए कांड संख्या 3/2021 यू/ एस 13(2) आर/ डब्ल्यू 13(1) ( बी) पीसी एक्ट 1988 का मामला 22 नवंबर को दर्ज किया था । स्पेशल विजिलेंस यूनिट की टीम ने इस मामले में उनके खिलाफ निगरानी कोर्ट के थाने में केस दर्ज किया है.

विशेष न्यायाधीश विजी पटना की अदालत द्वारा जारी सर्च वारंट के बल पर आरपीएस मोरे, पीएस रूपसपुर, पटना स्थित उसके आवासीय परिसर में आज छापेमारी की गयी, जिसमें बताया जा रहा है कि सीडीपीओ से पास से करोड़ों की संपत्ति का खुलासा हुआ है।. स्पेशल विजिलेंस के सूत्रों की मानें तो ज्योति कुमारी को सरकारी सेवा में आए महज 10 साल हुए हैं, इसके बावजूद उन्होंने इतनी कम अवधि में करोड़ों रुपए का फ्लैट पटना के आरपीएस मोड़ पर खरीदा है और साथ ही चार से साढ़े 4 लाख नकद की भी बरामदगी हुई है. ज्योति कुमारी के पति पेशे से वकील हैं लेकिन स्पेशल विजिलेंस यूनिट के सूत्रों की मानें तो उनके पास आय का कोई खास स्त्रोत नहीं है, ऐसे में ज्योति कुमारी इस पूरे मामले में फंसती नजर आ रही हैं।

फिलहाल स्पेशल विजिलेंस यूनिट की टीम छापेमारी के दौरान ज्योति कुमारी से पूछताछ करने में लगी है.  लगातार हो रही कार्रवाई से बिहार के अफसरों और बड़े ओहदों पर तैनात लोगो के खिलाफ इन एजेंसियों की छापेमारी से बिहार में फिलहाल खलबली मची हुई है.


Find Us on Facebook

Trending News