नौकरी से बर्खास्त किया जाएगा यह आईपीएस अधिकारी, जांच रिपोर्ट में दोषी पाए जाने के बाद कार्रवाई की चल रही तैयारी

नौकरी से बर्खास्त किया जाएगा यह आईपीएस अधिकारी, जांच रिपोर्ट में दोषी पाए जाने के बाद कार्रवाई की चल रही तैयारी

LUCKNOW :  लंबे समय से फरार चल रहे आईपीएस मणिलाल पाटीदार को नौकरी से बर्खास्त करने की तैयारी की जा रही है। उन पर एक क्रशर ठेकेदार को आत्महत्या के लिए मजबूर करने का आरोप है, जिसकी जांच मेरठ आईजी प्रवीण कुमार के द्वारा की जा रही थी। अब यह जांच पूरी हो गई है। बताया जा रहा है कि इसमें आईपीएस को दोषी बताया गया है। जिसके बाद अब पहले से निलंबित चल रहे अधिकारी को बर्खास्त करने की सिफारिश की बात कही जा रही है। 

पिछले साल का है मामला 

मामला महोबा के क्रेशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी से जुड़ा  है। त्रिपाठी ने बीते वर्ष आठ सितंबर 2020 को अपनी कार में खुद को गोली मार ली थी। उपचार के दौरान 13 सितंबर को उनकी मौत हो गई। खुद को गोली मारने से पहले इंद्रकांत ने एक वीडियो बनाकर पोस्ट की जिसमें उन्होंने आईपीएस मणिलाल पाटीदार पर गंभीर आरोप लगाए थे। इसके मुताबिक, मणिलाल पाटीदार उनसे छह लाख रुपये महीना रंगदारी मांग रहे थे। पैसा नहीं देने पर छापे मारकर और मुकदमा दर्ज कर जेल भेजने की धमकी दी जा रही थी। 

इस पूरे मामले में शासन के सख्त रुख के बाद ही मृतक के भाई रविकांत त्रिपाठी की तहरीर पर वांटेड आईपीएस मणिपाल पाटीदार, एसओ समेत चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। इस मामले में एसआईअी से जांच कराई गई, जिसके बाद सिपाही अरुण कुमार यादव का नाम बढ़ाया गया। मणिलाल पाटीदार अभी तक फरार हैं और उनपर एक लाख रुपये का ईनाम घोषित है।

इसी वीडियो के आधार पर शासन ने फरार आईपीएस मणिलाल पाटीदार के खिलाफ जांच की गई। जिसकी जिम्मेदारी मेरठ आईजी को सौंपी गई थी। अब जांच पूरी कर ली गई है। जिसमें आईपीएस को दोषी बताया जा रहा है।  अब शासन ने मणिलाल की सेवा समाप्ति के लिए भी रिपोर्ट मांगी है। सूत्रों के मुताबिक, जांच में मणिलाल को दोषी पाया गया है। इसी रिपोर्ट के आधार पर वांटेड आईपीएस की सेवा समाप्ति की कार्रवाई पर विचार किया जाएगा।



Find Us on Facebook

Trending News