सिटीजनशिप बिल को लेकर इस वरिष्ठ बीजेपी नेता ने जताया विरोध, कहा-ऐसा हुआ तो कर लूंगा सुसाइड

सिटीजनशिप बिल को लेकर इस वरिष्ठ बीजेपी नेता ने जताया विरोध, कहा-ऐसा हुआ तो कर लूंगा सुसाइड

NEWS4NATION DESK : अपने चुनावी घोषणा पत्र में बीजेपी ने केंद्र की सत्ता में लौटने पर नागरिकता (संशोधन) विधेयक को लागू करने का वादा किया है। लेकिन बीजेपी के इस वायदे का उनकी ही पार्टी के अंदर से विरोध का स्वर उठने लगा है। उनके दल के ही एक बड़े नेता ने सार्वजनिक तौर पर यह एलान किया है कि उनके जीते जी ऐसा नहीं हो सकता है। पार्टी ने ऐसा किया तो वे सुसाइड कर लेंगे। 

सिटीजनशिप बिल को लेकर मेघालय की शिलॉन्ग सीट से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के उम्मीदवार सनबोर शुलई ने कड़ा विरोध जताया है। शुलई ने कहा कि है वह मेघालय समेत पूर्वोत्तर राज्यों में नागरिकता (संशोधन) विधेयक लागू होने पर खुद की हत्या कर लेंगे। 

मेघालय विधानसभा के पूर्व उपाध्यक्ष सनबोर शुलई ने कल गुरुवार को वोट डालने के बाद कहा कि नागरिकता (संशोधन) विधेयक को तब तक लागू नहीं किया जाएगा, जब तक कि सनबोर शुलई जीवित है। अगर ऐसा हुआ तो मैं खुद को मार दूंगा।  

उन्होंने कहा कि मैं बिल को मेघालय और उत्तर पूर्व में लागू होने देने की पर आत्महत्या करूंगा। अगर भारत के किसी अन्य हिस्से में यह विधेयक लागू किया जाता है तो मुझे कोई समस्या नहीं है।

सनबोर शुलई ने कहा कि मैंने पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी के केंद्रीय नेताओं और गैर सरकारी संगठनों को एक पत्र सौंपा था कि मेघालय और पूर्वोत्तर राज्यों को नागरिकता (संशोधन) विधेयक से छूट दी जानी चाहिए। विधेयक में संशोधन की जरूरत है।

बता दें कि 2016 में मोदी सरकार नागरिकता (संशोधन) विधेयक को लाई थी। इस विधेयक के अनुसार अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान के अल्पसंख्यक समुदायों को 12 साल के बजाय छह साल भारत में गुजारने पर और बिना उचित दस्तावेजों के भी भारतीय नागरिकता मिलने का प्रावधान है।

इस विधेयक का पूर्वोत्तर के राज्यों में जबरदस्त विरोध हो रहा है। बीजेपी के कई सहयोगी दलों ने विधेयक को लेकर नाता भी तोड़ लिया है। अब खुद बीजेपी प्रत्याशी सनबोर शुलई ने भी विधेयक का विरोध किया है। 


Find Us on Facebook

Trending News