होली में इस बार सियासी गलियों की चमक रही फीकी, जानिए इसकी वजह....

होली में इस बार सियासी गलियों की चमक रही फीकी, जानिए इसकी वजह....

PATNA : होली के मौके पर इस बार सियासी गलियों की चमक फीकी रही। सीएम आवास से लेकर राबड़ी आवास तक सन्नाटा पसरा रहा। वहीं प्रदेश के कई बड़े नेताओं ने होली नहीं मनाया। 

होली के दिन लोगों से गुलजार रहने वाला लालू-राबड़ी आवास होली के दिन सूना रहा। राजद विधायक व नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने पहले ही ऐलान कर दिया था कि पुलवामा हमले को लेकर इसबार उनकी पार्टी ने होली नहीं मनाने का फैसला किया है। वहीं इसके पीछे लालू यादव का जेल में भी रहना एक बड़ा कारण रहा। 

राबड़ी आवास की तरह से सीएम आवास भी पूरी तरह से वीरान दिखा। वैसे सीएम आवास पर कुछ लोग होली खेलने पहुंचे तो उन्हें बेरंग वापस लौटना पड़ा। सीएम आवास के सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें य़ह कहते हुए लौटा दिया कि इस बार मुख्यमंत्री होली नहीं खेल रहे हैं। 

वहीं पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने बिहार में बढ़ते जघन्य अपराध और इसकी भयावह स्थिति का हवाला देते हुए होली नहीं मनाने का ऐलान किया था। उनके आवासा और हम पार्टी के दफ्तर में होली का कोई उत्सव नहीं हुआ। 

इधर लोजपा प्रदेश कार्यालय भी पूरी तरह से वीरान दिखा। लोजपा द्वारा पुलवामा हमले को लेकर होली नहीं मनाया गया।  का दफ्तर  कारण लोगों से इस साल होली नहीं मनाने की अपील किया। साथ ही कहा कि हमारी पार्टी (हम) के दफ्तर में होली का कोई उत्सव नहीं मनाया जायेगा। वहीं लोजपा सांसद सह पार्टी संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान पुलवामा ने शहीदों की स्मृति में इस वर्ष होली नहीं मनाये का पहले एलान कर दिया था।

सियासी गलियारे में होली की चमक फीकी रहने को लेकर बीजेपी के वरिष्ठ नेता ने कहा कि पुलवामा हमला एक कारण तो है ही वहीं टिकट बंटवारा नहीं होने का असर होली पर भी पड़ा है। 

वहीं जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि इस बार बिहार में बहुत शांतिपूर्ण होली रही।

वैसे राजनीतिक गलियारे के साथ-साथ इसबार होली के मौके पर शहर भी वीरान दिखा। हालांकि इसकी वजह शराबबंदी रही। राजधानी की प्रमुख सड़कें खाली नजर आईं। शराब नहीं मिलने की वजह से सड़कों पर हुड़दंग करने वाले नहीं दिखे। 


Find Us on Facebook

Trending News