इस साल अर्थशास्त्र का नोबेल प्राइज इन तीन अर्थशास्त्रियों को दिया गया, जानिये किन उपलब्धियों के लिए हुए सम्मानित

इस साल अर्थशास्त्र का नोबेल प्राइज इन तीन अर्थशास्त्रियों को दिया गया, जानिये किन उपलब्धियों के लिए हुए सम्मानित

Desk. इस साल अर्थशास्त्र का नोबेल प्राइज तीन अमेरिकी अर्थशास्त्रियों को दिया गया है. इन अर्थशास्त्रियों को यह पुरस्कार अनपेक्षित प्रयोगों, या तथाकथित 'प्राकृतिक प्रयोगों' से निष्कर्ष निकालने पर काम करने के लिए दिया गया है. रायल स्वीडिश एकेडमी आफ साइंसेस ने कहा कि तीनों ने आर्थिक विज्ञान में अनुभवजन्य कार्य को पूरी तरह से बदल दिया है

नोबेल से सम्मानित होने वाले अर्थशास्त्रियों में बर्कले स्थित कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के डेविड कार्ड, मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलाजी के जोशुआ डी.एंग्रिस्ट और स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के गुइडो इम्बेंस शामिल हैं. पुरस्कार की राशि एक करोड़ स्वीडिश क्राउन (11.4 लाख डालर) है. इसका आधा हिस्सा डेविड कार्ड को मिलेगा, जबकि शेष राशि एंग्रिस्ट और इम्बेंस में बराबर बंटेगी. कनाडा में जन्मे डेविड कार्ड को यह पुरस्कार लेबर इकोनामिक्स में उनके योगदान के लिए दिया जाएगा. वहीं इजराइली-अमेरिकी जोशुआ डी एंग्रिस्ट और डच अमेरिकी गुइडो डब्ल्यू इम्ब्रेन्स ने भी लेबर मार्केट और नेचुअलर एक्सपेरिमेंट्स में विश्लेषण किया.

1968 में शुरू हुआ अर्थशास्त्र का पुरस्कार

अन्य नोबेल पुरस्कारों के विपरीत अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार अल्फ्रेड नोबेल की वसीयत में स्थापित नहीं किया गया था बल्कि स्वीडिश केंद्रीय बैंक द्वारा 1968 में उनकी स्मृति में इसकी शुरुआत की गई थी, जिसमें पहले विजेता को एक साल बाद चुना गया था. यह प्रत्येक वर्ष घोषित नोबेल का अंतिम पुरस्कार है. पिछले साल का पुरस्कार स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के दो अर्थशास्त्रियों पाल आर मिल्ग्रोम और राबर्ट बी विल्सन को मिला, जिन्होंने नीलामी को अधिक कुशलता से संचालित करने की मुश्किल समस्या का समाधान प्रस्तुत किया. 

इससे पहले चिकित्सा, भौतिकी, रसायन विज्ञान, साहित्य और शांति में नोबेल जीतने वालों के नामों की घोषणा की गई है. अमेरिकी विज्ञानियों डेविड जूलियस और एर्डम पटापौटियन को इस बार चिकित्सा क्षेत्र के नोबेल के लिए चुना गया है. भौतिकी का नोबेल जापान के स्युकुरो मनाबे, जर्मनी के क्लास हेसलमैन और इटली के जियोर्जियो पैरिसी को मिलेगा.

रसायन का नोबेल पुरस्कार जर्मनी के बेंजामिन लिस्ट और स्काटलैंड के डेविड डब्ल्यूसी मैकमिलन को मिलेगा. ब्रिटेन में रह रहे तंजानिया के लेखक अब्दुलरज्जाक गुरनाह को इस साल का साहित्य का नोबेल पुरस्कार दिया जाएगा. पिछले हफ्ते, 2021 का नोबेल शांति पुरस्कार फिलीपींस की पत्रकार मारिया रेसा और रूस के दिमित्री मुरातोव को उन देशों में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए उनकी लड़ाई के लिए दिया गया था, जहां पत्रकारों को लगातार हमलों, उत्पीड़न और यहां तक कि हत्या का सामना करना पड़ा है.

Find Us on Facebook

Trending News