बीआरए बिहार यूनिवर्सिटी में हज़ारों छात्र-छात्राओं का बदल गया जेंडर, जानिए क्या है पूरा मामला

बीआरए बिहार यूनिवर्सिटी में हज़ारों छात्र-छात्राओं का बदल गया जेंडर, जानिए क्या है पूरा मामला

MUZAFFARPUR : बिहार के मुजफ्फरपुर में हजारों छात्रों का जेंडर बदल गया है। वे मेल और फीमेल से वे ट्रांसजेंडर हो गए। जिसके बाद BRA बिहार विश्विद्यालय में हड़कंप मच गया। बताया जा रहा है कि स्नातक पार्ट 1 के कई हजार छात्रों का जेंडर बदला गया है। स्नातक आवेदन फार्म में मेल फीमेल की जगह अदर्स भर दिया है। इधर, एक्जाम कंट्रोलर ने कहा की साइबर कैफ़े से फॉर्म भरने मे गड़बड़ी हुई है। 


इसका खुलासा तब हुआ, जब इन छात्रों के आवेदन फॉर्म कॉलेजों में नामांकन के लिए भेजे गये। वहां जिन छात्र-छात्राओं के आगे अदर्स लिखा था, वह लड़का या लड़की निकल रहे थे। इतनी बड़ी संख्या में विद्यार्थियों के जेंडर बदलने से कॉलेज और विवि भी सकते में है। बिहार विवि के एक्जाम कंट्रोलर डॉ संजय कुमार सिंह ने बताया की आवेदन फॉर्म भरते समय यह गलती हुई है। उस समय अगर ध्यान दिया जाता तो हो सकता था की ऐसी गलती ना होती। 

विद्यार्थी आकर शिकायत कर रहे हैं कि साइबर कैफे वालों ने हमारे फॉर्म में गलती कर दी और जेंडर के आगे अदर्स भर दिया। बिहार विवि में पहली मेरिट लिस्ट के लिए 60 हजार आवेदन थे। इनमें 36 हजार 10 छात्राएं और 25 हजार 873 छात्र शामिल थे। जिन छात्र-छात्राओं के आवेदन में जेंडर की गलती हुई है, उसे ठीक करने के लिए सुधार का मौका दिया जायेगा। इसके लिए पोर्टल खोलकर एडिट का अवसर दिया जायेगा। साथ ही छात्रों से भी आग्रह है की खुद से ही एडमिशन फॉर्म भरे ताकि गलती न हो। 

बिहार विवि के यूएमआईएस को-आर्डिनेटर प्रो. टीके डे ने बताया की जिन छात्र-छात्राओं के आवेदन में जेंडर की गलती हुई है। उसे ठीक करने के लिए सुधार का मौका दिया जायेगा। इसके लिए पोर्टल खोलकर एडिट का अवसर दिया जायेगा। दो दिन बाद एडिट के लिए पोर्टल खोल दिया जायेगा। नामांकन के समय छात्रों के जेंडर बदलने का मामला सामने आने के बाद नामांकन लेने वाले कॉलेज परेशान हो रहे हैं। कॉलेज के पास पहुंचे आवेदन में सरोज कुमार के आगे अदर्स लिखा है, जबकि वह लड़का है।

मुजफ्फरपुर से गोविन्द की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News