अबतक 100 से ज्यादा बुजुर्गों के खाते से उड़ा चुके थे 10 करोड़ से ज्यादा, पुलिस ने ऐसे दबोचा

अबतक 100 से ज्यादा बुजुर्गों के खाते से उड़ा चुके थे 10 करोड़ से ज्यादा, पुलिस ने ऐसे दबोचा

NEWS4NATION DESK : लोगो को बैंक के खाते को अपडेट करने के नाम पर झांसा देकर चूना लगाने वाले गिरोह के दो सदस्यों को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार अपराधियों में गिरोह का सरगना मूल रुप से झारखंड का निवासी 24 वर्षीय अलीमुद्दीन अंसारी शामिल है। 

बताया जा रहा है कि इस गिरोह ने अबतक 100 से ज्यादा बुजुर्गों से 10 करोड़ से ज्यादा का चुना लगा चुका है। पुलिस के अनुसार ये लोग बुजुर्गों को झांसा देकर उनसे बैंक खाते और अन्य दस्तावेजों की डिटेल्स पूछ लेते थे। उसके बाद गरीबों को पैसे देकर उनके डॉक्युमेंट्स पर एड्रेस बदलवा लेते थे और फिर इस पते पर बैंक अकाउंट खोलकर बुजुर्गों के खाते खाली कर देते थे। पुलिस ने तमाम बैंकों में इस तरह के करीब 1100 खातों का पता लगाया है। इस गिरोह का जाल कई राज्यों में फैला था।

खुद को बताते थे बैंक के कस्टमर केयर प्रतिनिधि 

पुलिस के मुताबिक, द्वारका सेक्टर-4 के रहने वाले डॉ. राकेश गिलानी ने द्वारका नॉर्थ थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि एक व्यक्ति ने उन्हें फोन किया और खुद को कस्टमर केयर प्रतिनिधि बताते हुए आधार कार्ड को मोबाइल नंबर से लिंक कराने की बात कही। राकेश ने झांसे में आकर आधार कार्ड, डेबिट कार्ड नंबर और सीवीवी नंबर तक दे दिए। उसके बाद एक एसएमएस 121 नंबर पर भेजने को कहा। एसएमएस भेजने पर सिम डिएक्टिवेट हो गया। फोन कंपनी से पता चला कि इस नंबर पर दूसरा सिम एक्टिवेट हो चुका है और खाते से 4.17 लाख रुपये निकलने का भी पता चला।

डीसीपी ने बताया कि गिरोह का सरगना झारखंड का अलीमुद्दीन अंसारी (27) है। पुलिस ने अलीमुद्दीन और आजमगढ़ के मनोज यादव को गिरफ्तार किया है। इनके पास से अलग-अलग बैंक अकाउंट के 81 डेबिट कार्ड, 104 चेकबुक, 130 पासबुक, 8 फोन, 31 सिम कार्ड, आईडी प्रूफ की फोटोकॉपी आदि बरामद किए हैं।

Find Us on Facebook

Trending News