TMC ने कांग्रेस-वामदलों को साथ आने का दिया न्योता, कभी इन्हीं को हराकर बंगाल की गद्दी पर बैठीं थी ममता

TMC ने कांग्रेस-वामदलों को साथ आने का दिया न्योता, कभी इन्हीं को हराकर बंगाल की गद्दी पर बैठीं थी ममता

डेस्क। पश्चिम बंगाल में 10 साल से मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठी ममता बनर्जी ने आनेवाले प्रदेश चुनाव में कांग्रेस और वाम दलों को साथ आने का न्योता दिया है। चुनाव से पहले ममता बनर्जी का यह बड़ा दांव माना जा रहा है। लेकिन, साथ ही अब ममता की पार्टी ने कहीं न कहीं यह मान लिया है कि आनेवाले चुनाव में जीत की राह इतनी आसान नहीं है। जानकार मान रहे हैं कि टीएमसी राज्य में भाजपा को मिल रहे समर्थन से डर गई है। 

कभी इनको ही हराकर कुर्सी तक पहुंची थी ममता

पश्चिम बंगाल में इससे पहले भाजपा कभी भी उतनी लोकप्रिय पार्टी नहीं रही है। अब तक बंगाल में कांग्रेस और वामदल ही ममता के लिए बड़ी चुनौती बने हुए थे। पिछले दो दशक में ममता की राजनीतिक लड़ाई वाम दलों के साथ ही रही है। दस साल से सीएम की कुर्सी पर बैठने के लिए ममता ने मुख्य विपक्ष वाम दलों को ही शिकस्त दी थी। लेकिन कहा जाता है कि राजनीति में कभी कुछ भी हो सकता है। ममता बनर्जी ने उन्हीं वाम दलों और कांग्रेस को चुनाव में अपने साथ आने की बात की है। टीएमसी की तरफ से ऑफर दिया गया है कि राज्य में भाजपा को रोकने के लिए सभी गैर सांप्रदायिक पार्टियो को एक साथ आने की जरुरत है।

कांग्रेस ने दिया जवाब - उनके ही कारण भाजपा को मिला मौका

कांग्रेस और वामदलों को टीएमसी के साथ आने के ऑफर को लेकर कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा है कि अगर उन्हें सांप्रदायिक ताकतों का डर है तो वह अपनी पार्टी का विलय कांग्रेस में कर सकती हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बीजेपी के मजबूत होने के लिए सत्तारूढ़ दल को जिम्मेदार बताया. उन्होंने कहा, ‘‘हमें तृणमूल कांग्रेस के साथ गठबंधन में कोई दिलचस्पी नहीं है. अगर ममता बनर्जी बीजेपी के खिलाफ लड़ने की इच्छुक हैं तो उन्हें कांग्रेस में शामिल हो जाना चाहिए क्योंकि वही सांप्रदायिकता के खिलाफ लड़ाई का एकमात्र देशव्यापी मंच है।

हताशा में है ममता की तृणमूल

घटनाक्रम पर पश्चिम बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष और लोकसभा सदस्य दिलीप घोष ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस हमसे अकेले नहीं लड़ सकती, इसलिए वे अन्य दलों से मदद मांग रहे हैं. यह उनकी की ‘हताशा’ को दर्शाता है.  इससे साबित होता है कि बीजेपी ही तृणमूल कांग्रेस का एकमात्र विकल्प है।


Find Us on Facebook

Trending News