कोरोना की चौथी लहर से निपटने के लिए पीएम मोदी ने किया अलर्ट, संक्रमण प्रसार रोकने के लिए राज्यों से विशेष अपील

कोरोना की चौथी लहर से निपटने के लिए पीएम मोदी ने किया अलर्ट, संक्रमण प्रसार रोकने के लिए राज्यों से विशेष अपील

पटना. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को देश के विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की और उनसे कोरोना के बढ़ते मामलों पर गंभीरता दिखाने की अपील की. पीएम मोदी ने कोरोना के बढ़ते मामलों पर चिंता जाहिर की. उन्होंने सभी राज्य सरकारों से एहतियात बरतने और टीकाकरण पर विशेष ध्यान देने की अपील की. पीएम मोदी ने खासकर इस बात पर जोर दिया कि देश में अब 6 से 12 साल के बच्चों का टीकाकरण होगा जो कोरोना से बचाव के लिए सबसे कारगर होगा. 

उन्होंने कोरोना के बढ़ते मामलों पर चिंता जताते हुए कहा कि कुछ राज्यों में कोरोना के केस बढ़ते रहे हैं. लेकिन कोरोना की चुनौती टली नहीं है. इसकी गंभीर हालत हो सकती है. ये यूरोप में देख रहे हैं. पिछले कुछ दिनों में कई देशों में केस सामने आए हैं. हमने हालात को नियंत्रण में रखा है. उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन ने भारत में लोगों को कोरोना की तीसरी लहर से बचाया. 

यह हर भारतीय के लिए गौरव की बात है आज कि 96 प्रतिशत आबादी को पहली डोज, 15 साल से ऊपर 85 प्रतिशत को दूसरी डोज लग चुकी है. आप समझते हैं कि वैक्सीन ही सबसे बड़ा कवच है. देश में लंबे समय बाद स्कूल खुले हैं ऐसे में केस बढ़ने से चिंता बढ़ रही है. हमने 12 से 14 के लिए, कल 6 से 12 के लिए कोवैक्सिन की परमीशन मिल गई है.

मोदी ने कहा-पिछले 2 हफ्तों से मामले जो बढ़ रहे है उससे हमें अलर्ट रहना है. 2 साल के भीतर में देश ने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर से लेकर ऑक्सीजन सप्लाई तक कोरोना से जुड़े हर पक्ष में जो आवश्यक है उसे देने का काम किया है. तीसरी लहर में स्थितियां अनियंत्रित होने की खबर नहीं आई. बीते 2 वर्षों में कोरोना को लेकर ये हमारी 24वीं बैठक है, कोरोना काल में जिस तरह केंद्र और राज्यों ने मिलकर काम किया है और जिन्होंने कोरोना के खिलाफ देश की लड़ाई में अहम भूमिका निभाई है मैं सभी कोरोना वॉरियर्स की प्रशंसा करता हूं.

उन्होंने कहा कि इंफ्रास्ट्रक्चर के अपग्रेड का काम तेजी से चलता रहे, ये सुनिश्चित करना चाहिए. बिस्तर, वेंटिलेटर और पीएसए ऑक्सीजन प्लांट जैसी सुविधाओं के लिए हम काफी बेहतर स्थिति में हैं लेकिन ये सुविधाएं कार्यांवित रहे, हमें ये भी सुनिश्चित करना होगा. हमारे वैज्ञानिक और विशेषज्ञ नेशनल और ग्लोबल स्थिति को लगातार मॉनिटर कर रहे हैं. संक्रमण को शुरुआत में ही रोकना हमारी प्राथमिकता पहले भी थी, आज भी यही रहना चाहिए. टेस्ट,ट्रैक, ट्रीट की हमारी स्ट्रैटेजी को भी हमें उतने ही प्रभावी तौर पर लागू करना है.


Find Us on Facebook

Trending News