भाजपा के '80-20' को धराशाई करने के लिए सपा ने '85-15' का दिया नारा, स्वामी प्रसाद मौर्य बोले- 85 तो हमारा है, 15 में भी बंटवारा है

भाजपा के '80-20' को धराशाई करने के लिए सपा ने '85-15' का दिया नारा, स्वामी प्रसाद मौर्य बोले- 85 तो हमारा है, 15 में भी बंटवारा है

UP DESK. स्वामी प्रसाद मौर्य ने भोजपा को छोड़कर आज समाजवादी पार्टी में शामिल हो गये हैं. इस दौरान उन्होंने समाजवादी पार्टी के मंच से कार्यकर्ताओं को संबोधित किया है. इस दौरान उन्होंने अखिलेश सिंह यादव को 2022 में यूपा का मुख्यमंत्री बताया. साथ ही उन्होंने कहा कि आज मकर संक्रांति भारतीय जनता पार्टी का बर्बादी का इतिहास लिखने जा रहा है. उन्होंने कहा कि भजापा के बड़े नेता हमारी बातों पर कभी ध्यान नहीं दिया, उन लोगों की आज नींद हराम हो गयी है.

2017 चुनाव में भाजपा ने ठग लिया

उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के लोगों ने दलितों, पिछड़ों अल्पसंख्यक की आंखों में धूल झोकर सरकार बनाई थी. उन्होंने कहा कि भाजपा ने स्वामी प्रसाद मौर्य या केशव प्रसाद मौर्य के नाम उछालकर पिछड़े का वोट ले लिया, लेकिन बाद में धोखा दे दिया. उन्होंने कहा कि भाजपा ने कहा था कि चर्चा की थी कि मुख्यमंत्री स्वामी प्रसाद या केशव प्रसाद मौर्य होंगे, लेकिन मुख्यमंत्री गोरखपुर से लाकर योगी को बना दिया. उन्होंने कहा कि सरकार बनाएं दलित और पिछड़े और मलाएं खाएं पांच प्रतिशत अगड़न, यह अब नहीं चलेगा.

 स्वामी प्रसाद ने दिया 85 और 15 का नारा

स्वामी प्रसाद मौर्य ने भाजपा नारा दे रही है, 80 और 20 का, लेकिन मैं कहा रहा हूं 80 और 20 नहीं अब होगा 85 और 15 का. 85 तो हमारा है और 15 में भी बंटवारा है. साथ उन्होंने भजापा को चुनौती भी दी. उन्होंने कहा कि यदि भजपा वाले हिंदुओं की बात करते हैं, तो फिर दलितों, पिछड़ें वर्ग को संविधान के तहत आरक्षण की व्यवस्थी की गयी, थी उसे निगलने का पाप क्यों किया गया. उन्होंने अभी हाल में ही 69 हजार शिक्षकों की भर्ती हुई. इसमें 19 हजार सामान्य वर्ग को नियुक्त पत्र दे दिया गया. तो क्या अनुसूचित जाती, जनजाती और 54 प्रतिशत पिछड़ा वर्ग वर्ग नहीं है क्या?

दलित पिछड़ो की जगह विभाग को अगड़े से भर दिया

उन्होंने कहा कि दूसरे के हिस्सा को सामान्य वर्ग को दे दिया गया. उन्होंने कहा कि जब मैं कैबिनेट में मंत्री था, उस समय एक प्रस्तवा बिना विज्ञापन लाया गया था, इसमें चिकित्सा विभाग में अनुसूचित जाति, जनजाति और पिछड़ा वर्ग का अभ्यर्थी की जगह पर सामान्य वर्ग के लिए भर दिया गया. इसका मैंने कैबिनेट में विरोध किया. इसका समर्थन मुख्यमंत्री योगी ने भी किया, लेकिन नियुक्ति पत्र पर रोक नहीं लगाया.

मंत्री रहते कहा गोरखपुर में गुंडाराज है

उन्होंने कहा कि अगड़े में भी कुछ समाजवादी और अंबेडकरवादी के लोगों हैं. ऐसे में 15 प्रतिशत में भी हमारा हिस्सा है. साथ ही उन्होंने कहा कि अब लोहिया के समाजवाद और अंबेडकर के अंबेडकरवाद साथ आ गये हैं. इससे भाजपा की पैरों तले जमीन खिसक गया है. उन्होंने कहा कि मंत्री रहते मैं कहा था कि गोरखपुर में गुंडा का राज है, लेकिन इसका कवरेज नहीं मिला. उन्होंने कहा कि प्रदेश में लगाता हत्या हो रही है, लेकिन भजपा वाले कहते हैं कानून का राज है.

भाजपा को हिंद महासागर में डूबाऊंगा

उन्होंने कहा कि मैं जिसका साथ छोड़ता हूं, उसका कोई अता पता नहीं रहता है. उन्होंने बहुजन समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मायावती का उदाहरण देते हुए कहा कि जब मैं बसापा में था, तो मायावती मुख्यमंत्री बनी थी. मेरे साथ छोड़ते ही बीएसपी का तहस नहस हो गया. जब मैं बीजेपी में नहीं था, तब भाजपा तीन नंबर थी, मेरे शामिल होते ही भाजपा प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनाते हुए पहले स्थान पर आ गयी. मैं फिर से भाजपा छोड़ दिया हूं. भाजपा का भी बसापा जैसा हाल होगा. उन्होंने कहा कि मैं भाजपा को हिंद महासागर में डूबा दूंगा, भाजपा को दहाई अंक पर ला दूंगा.

Find Us on Facebook

Trending News