जेल में सजा काट रहे प्रेमी को जेल से छुड़ाने के लिए प्रेमिका ने रची ऐसी खतरनाक साजिश कि पुलिस को भी यकीन करना हो गया मुश्किल, किया बड़ा खुलासा

जेल में सजा काट रहे प्रेमी को जेल से छुड़ाने के लिए प्रेमिका ने रची ऐसी खतरनाक साजिश कि पुलिस को भी यकीन करना हो गया मुश्किल, किया बड़ा खुलासा

KATIHAR : कटिहार एक सिरफिरे प्रेमिका ने पिछले तीन सालों से जेल में बंद अपने प्रेमी को जेल से छुड़ाने के लिए एक ऐसी साजिश रची जिसे सुनकर आप भी दंग रह जाएंगे, प्रेमिका ने हत्या के आरोपी अपने प्रेमी के उस दुश्मन को टार्गेट बनाया जिसके भाई के हत्या के मामले में उसके प्रेमी जेल में है और मामला ट्रायल में चल रहा है, प्रेमिका का मंसूबा यह था कि अगर झूठा केस में फंसा कर उस शख्स को जिसके भाई की हत्या उसके प्रेमी ने किया है उसे जेल भेज देंगे तो मामला दोनो पक्ष के बीच कॉम्पोरमाईज हो सकता है और उसकी प्रेमी सलाखों से बाहर आ सकता है, इसलिए उन्होंने जेल में बंद अपने प्रेमी के संपर्क से प्रेमी के ही दोस्तो से अपने हाथ में गोलीमारवा कर उसे झूठा केस में फसाने की कोशिश किया मगर कटिहार पुलिस की तफ्तीश ने पूरा मामला पर पर्दाफाश कर दिया और अब प्रेमिका खुशी सहित कुल चार लोग सलाखों के पीछे चले गया

मामला कटिहार नगर थाना क्षेत्र के प्रभात नगर डी एस कॉलेज रोड से जुड़ा हुआ है, इसमें 9 नवंबर को खुशी कुमारी ने आवेदन देते हुए आरोप लगाया की कटिहार रामकृष्ण मिशन रोड के बगल में मेजर आशुतोष पार्क के पास अंकित कुमार साह उससे छेड़छाड़ का कोशिश किया  और जब वह इसमें नाकामयाब रहा है तो वह नजदीक से खुशी के हाथ में  गोली मार दिया, पहले तो गंभीर हालत में खुशी को सदर अस्पताल में भर्ती करा कर इलाज शुरू किया गया और बाद में पुलिस ने जल्दी ही आरोपी अंकित को हिरासत में लेकर मामले पर पूछताछ भी शुरू किया लेकिन परत दर परत मामला जैसे ही खुलने लगा पुलिस भी सकते में आ गया।

सीसीटीवी फुटेज और पुलिसिया अनुसंधान में पुलिस को शक होने लगा की इस कहानी में खुशी द्वारा कुछ बनावटी कहानी रचा गया है, इस पर पुलिस ने जब शक्ति से पूछताछ किया तो सारा मामला खुलकर सामने आ गया है। दरअसल खुशी जेल में बंद राजा से बेइंतहा प्यार करता है जो अंकित के भाई के हत्या के मामले में पिछले तीन सालों से जेल में बंद है, खुशी को लगा  कि अगर वह बेवजह अंकित को फंसा कर जेल भेज देगे तो दोनों पक्ष में मामला कंप्रोमाइज होने से उसके प्रेमी राजा जेल से छूट सकता है।

 इसलिए उन्होंने जेल में बंद राजा के साथियों का मदद लिया जिसमें से जेल में बंद राजा के साथी नीरज जो कि जेल से बाहर है, ने ही खुशी के कहने पर उसके हाथ में नज़दीक से गोली मारी है और इस मामले में यानी खुशी को अस्पताल पहुंचाने और अन्य तरह के सहयोग करने में राजा के ही दो और मित्र अजय और रुपेश ने मदद किया है।

 फिलहाल पुलिसिया तफ्तीश में मामला खुलने के बाद खुशी ने तो चुप्पी साध लिया है मगर नीरज ने पूरे कहानी बयां करते हुए सबकुछ साफसाफ बता दिया है कि किस तरह से इस सिरफिरे लड़की ने जेल में बंद अपने प्रेमी के साथ पूरे साजिश को रचा था।

 वैसे कानून के लिहाज से एक बात अक्सर कहा जाता है किसी भी हालात में दोषी बचे नहीं और उससे भी ज्यादा इस बात का ध्यान रखा जाता है कि बेगुनाह फंसे नहीं।- कटिहार पुलिस के इस मामले की तफ्तीश में बिल्कुल कानून के इस पहलू का लाज रख लिया क्योंकि आमतौर पर खुशी के शिकायत के अनुसार उसके साथ छेड़छाड़ में नाकाम रहने वाले अंकित जो उसे गोली मारा था उसे पुलिस ने कुछ ही घंटों में हिरासत में ले लिया था। 

लेकिन इसके बाद भी पुलिस ने जितने मेहनत से मामले की तह तक पहुंचते हुए एक बेगुनाह अंकित  को न सिर्फ गुनहगार बनने से बचाने में कामयाब हुई है, बल्कि एक सिरफिरे प्रेमिका की करतूत का ऐसा खुलासा किया जो यह साबित करने के लिए काफी है इंतकाम की आग में डूबे एक प्रेमिका अपने प्यार को पाने के लिए किस हद तक जा सकती है

पूरे मामले पर पुष्टि करते हुए एसपी ने भी माना की कहानी जरा फिल्मी है, फिलहाल इस मामले में पुलिस ने खुशी के साथ अन्य तीनों आरोपी नीरज, रूपेश और अजय को भी गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज दिया है।  इस मामले में जिस तरह से इस शातिर प्रेमिका को कटिहार पुलिस ने बेनकाब किया है यह पुलिसिया तफ्तीश के एक अच्छा उदाहरण है


Find Us on Facebook

Trending News