आज भारत बंद : इस बार ट्रेनें जलाई तो खैर नहीं, RPF-GRP को दिए गए हैं स्पेशल निर्देश, बिहार में 20 जिलों में इंटरनेट बंद

आज भारत बंद : इस बार  ट्रेनें जलाई तो खैर नहीं, RPF-GRP को दिए गए हैं स्पेशल निर्देश, बिहार में 20 जिलों में इंटरनेट बंद

PATNA : केंद्र सरकार की सेना में भर्ती को लेकर लाए गए अग्निपथ योजना के विरोध में आज भारत बंद का ऐलान किया गया है। पिछले कुछ दिनों में देश में इस योजना को लेकर जिस तरह हिंसक प्रदर्शन हुए, ट्रेनें  जलाई गई, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया। उस घटना की पुनरावृत्ति न हो, इसको लेकर RPF और GRP हाईअलर्ट पर हैं। RPF के सीनियर ऑफिसर्स ने हिंसा करने वाले प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सख्ती से निपटने के आदेश दिए हैं. आदेश में साफतौर पर कहा गया है कि हिंसा करने वालों के खिलाफ संगीन धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी। वहीं शहरों में होनेवाले हंगामे को रोकने के लिए फोर्स को तैनात किया गया है। 

इस बार रेलवे स्टेशन में घुसे तो खैर नहीं

भारत बंद के ऐलान के बाद RPF और GRP के अधिकारियों ने कहा है कि चप्पे-चप्पे पर बारीकी से नजर रखी जाएगी इसके साथ ही मोबाइल, कैमरा, सीसीटीवी से हिंसा करने वालों के खिलाफ डिजिटल साक्ष्य जुटाने के आदेश दिए गए हैं। GRP के अधिकारियों के मुताबिक वीडियो साक्ष्य के आधार पर संदिग्धों के खिलाफ आपराधिक धाराओं के तहत दर्ज किए जाएंगे। वहीं ड्यूटी पर तैनात रहने वाले सुरक्षाकर्मियों से कहा गया है कि वह पूरे सेफ्टी गियर पहनें और स्थिति को नियंत्रण से बाहर न होने दें।

जानकारी के मुताबिक RPF ने इंटरनल कम्युनिकेशन के जरिए अलर्ट मोड पर रहने के लिए कहा गया है. साथ ही वरिष्ठ अधिकारियों को संवेदनशील स्टेशनों का बार-बार दौरा करने के आदेश दिए गए हैं।

अनुभवी अधिकारी करेंगे जांच

RPF की ओर से कहा गया है कि हर शिकायत की उच्च स्तरीय जांच होगी, ताकि कोई कमी या खामी न रह जाए. केस की जांच अनुभवी इन्वेस्टिगेशन ऑफिसर (IO) को दी जाए, ताकि उपद्रवियों पर सख्त एक्शन हो. इसके साथ ही हर मामले में पुख्ता सबूत जुटाने के लिए कहा गया है।

बिहार में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था

वहीं बात बिहार की करें , राज्य के करीब एक दर्जन जिलों के भाजपा कार्यालयों में एसएसबी की तैनाती की गई है।जिन जिलों में भाजपा कार्यालय की सुरक्षा बढ़ाई गई है उसमें किशनगंज, सहरसा, सुपौल, मधेपुरा, पूर्णिया, मोतिहारी, दरभंगा, नवगछिया, भागलपुर, कटिहार और बांका जिला शामिल हैं। इसके अलावा अन्य जिलों में भी भाजपा कार्यालयों की सुरक्षा बढ़ाते हुए पुलिस बल की तैनाती की गई है। अग्निपथ योजना का सबसे ज्यादा विरोध बिहार में ही रहा है। ऐसे में इस बार किसी प्रकार के विरोध प्रदर्शन से निपटने के लिए सख्ती से कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं।

20 जिलों में इंटरनेट बंद

वहीं हंगामें की आशंका को देखते हुए अगले 24 घंटे के लिए प्रदेश के 20 जिलो में इंटरनेट सेवा बंद कर दिया गया है। कैमूर, भोजपुर, औरंगाबाद, रोहतास, बक्सर, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, समस्तीपुर, लखीसराय, बेगूसराय, वैशाली, सारण, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, गया, मधुबनी, जहानाबाद, खगड़िया, शेखपुरा में इंटरनेट सेवा बंद रहेगी। पहले राज्य के 15 जिलों में इंटरनेट सेवा पर रोक लगाई गई थी।इन  20 जिलों में फेसबुक, ट्विटर और वाट्सएप जैसे इंटरनेट मीडिया प्लैटफार्म पर तस्वीरें, वीडियो या संदेश नहीं भेजे जा सकेंगे। हालांकि रेलवे, बैंकिंग एवं अन्य सरकारी सेवाएं इससे प्रभावित नहीं होंगी। 

इसके अलावा पुलिस मुख्यालय से भी सभी जिलों में पुलिस फोर्स और एसएसबी के बटालियन को उतारने की बात सामने आई है। कई जिलों में एक दिन पहले ही पुलिस ने फ्लैग मार्च निकालकर उपद्रवी तत्वों को संकेत दे दिया है कि इस बार उनकी 


Find Us on Facebook

Trending News