गले मिलते ही मिट गई तीन दशक पुरानी दुश्मनी, आनंद मोहन की बेटी की रिंग सेरेमनी में पहुंचे पप्पू यादव

गले मिलते ही मिट गई तीन दशक पुरानी दुश्मनी, आनंद मोहन की बेटी की रिंग सेरेमनी में पहुंचे पप्पू यादव

PATNA : पटना में सोमवार का दिन राजनीतिक नजरिए से बेहद खास रहा। बीती रात पूर्व सांसद व बाहुबली नेता रहे आनंद मोहन की इकलौती  बेटी सुरभी आनंद की रिंग सेरेमनी आयोजित की। आनंद मोहन को इसी कार्यक्रम के लिए 15 दिन के पेरोल पर रिहा किया गया है। इस सेरेमनी की चर्चा बिहार के पूरे राजनीतिक हलकों में हो रही है। वजह  कि इस सेरेमनी  बिहार के सीएम नीतीश के साथ मंत्रिमंडल के कई मंत्री शामिल हुए हैं। इसमें डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव, वित्त मंत्री विजय चौधरी, जल संसाधन मंत्री संजय झा और मंत्री सुमित सिंह व कई बड़े नेता पहुंचे। लेकिन इन सबके बीच एक खास चेहरा भी इस रिंग सेरेमनी में पहुंचा। वह चेहरा था जाप सुप्रीमो पप्पू यादव का। 

पप्पू यादव इस रिंग सेरेमनी में न सिर्फ शामिल हुए,  बल्कि आनंद मोहन के साथ काफी समय गुजारा, नए जोड़े को शुभकामनाएं दी।  पूरे परिवार के साथ तस्वीरें भी खिंचवाई, एक पल ऐसा भी नजर आया, जब दो पुराने दुश्मन एक साथ गले मिलते हुए नजर आए। ऐसा लगा कि नब्बे के दशक में दोनों की दुश्मनी भी इस सेरेमनी के साथ हमेशा के लिए खत्म हो गई। दोनों के बीच ऐसा लग रहा था कि कभी कोई दुश्मनी ही नहीं थी। इस मुलाकात के बाद पप्पू यादव ने लिखा कि पूर्व सांसद श्री आनंद मोहन जी के इकलौती सुपुत्री सुरभि आनंद जी की रिंग शिरोमणि में हम शामिल हुए। इस पावन अवसर पर बिटिया को आशीष दिया और उनके सफल वैवाहिक जीवन की कामना की। मौके पर लंबे अरसे बाद श्री आनंद मोहन जी से भी मुलाकात का अवसर मिला।

आनंद मोहन की बेटी की रिंग सेरेमनी में पप्पू यादव का आना बेहद खास मौका बन गया। बिहार में नब्बे के दशक में इन दोनों नेताओं की दुश्मनी चरम थी। कई लोगों में आज भी आनंद मोहन और पप्पू यादव की दुश्मनी  की यादें ताजा हैं। न जानें कितने हजार गोलियां दोनों नेताओं के आपसी दुश्मनी में चली थी। दोनों नेता एक दूसरे को मात देने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते थे। यह दुश्मनी कई सालों तक चलती रही। लेकिन बदले वक्त के साथ जिस तरह पप्पू यादव ने अपनी छवि बदली, बीती रात उन्होंने बता दिया कि वह पुरानी दुश्मनी खत्म करने के लिए तैयार है।

15 दिन के पैरोल पर रिहा हुए हैं आनंद मोहन

बिहार के बाहुबली नेताओं में शुमार आनंद मोहन को 15 दिन की पैरोल मिली है। उनकी मां गीता देवी के स्वास्थ्य कारणों और बेटी शुरभि आनंद की रिंग सेरेमनी की वजह से उन्हें 15 दिनों की पैरोल मिली है। सहरसा जेल से बाहर आते ही उनका पुराना रंग दिखा। पत्नी लवली आनंद समेत हजारों लोगों ने आनंद मोहन को जेल से रिसीव किया। जेल से बाहर निकलने के बाद आनंद मोहन ने मीडिया से कहा कि शुभ काम से बाहर निकले हैं। सबको आजादी अच्छी लगती है। जितने दिन बाहर रहूंगा समर्थकों और सभी अपील है कि मेरा साथ दें। आनंद मोहन ने कहा कि ये अस्थाई मुक्ति है। इसमें बहुत कुछ बंधा हुआ है।


Find Us on Facebook

Trending News