उद्योग मंत्री बनते ही शाहनवाज हुसैन की हुंकार, बिहार में लगायेंगे उद्योग और बढ़ाएंगे रोजगार की रफ्तार

उद्योग मंत्री बनते ही शाहनवाज हुसैन की हुंकार, बिहार में लगायेंगे  उद्योग और बढ़ाएंगे रोजगार की रफ्तार

PATNA. बिहार में रोजगार और उद्योगों की मांग हमेशा से उठती रही है. कोरोनाकाल में जहां बेरोजगारी को लेकर युवा और मजदूर खासा परेशान रहे,पलायन का मुद्दा भी जोरों से उठा तो ऐसे में बिहार में उद्योगों की मांगों ने और तूल पकड़ लिया. वहीं इस बीच चुनाव हुआ ,नीतीश सरकार सत्ता में आई और नयी सरकार का गठन हुआ। बाद में, बिहार में नीतीश सरकार की कैबिनेट में मंत्रियों ने शपथ लिया और सरकार में उद्योग मंत्रालय की जिम्मेदारी बेहद अनुभवी और खास चेहरे और केंद्र सरकार की कैबिनेट में मंत्री रहे शाहनवाज हुसैन के कंधे सौंप दिया गया। अब वह बिहार में उद्योगों का जाल बिछाने के लिए पूरी तरह से तैयार नजर आ रहे हैं।

नई जिम्मेदारी संभालने के बाद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि बिहार में टेक्सटाइल का भविष्य काफी उज्ज्वल है। उन्होंने कहा कि नीतीश सरकार के द्वारा कोरोनाकाल में कराया गया स्किल मैपिंग इसमें बेहद सहायक होगा। शाहनवाज हुसैन ने उद्योग मंत्रालय की कमान संभालने के बाद कहा की बिहारियों का डंका हर जगह बजा है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बिहार में ही ऐसी क्षमता है जो इस क्षेत्र में अग्रणी भूमिका निभाने वाले बांग्लादेश को चुनौती दे सके।

शाहनवाज ने बताया कि बतौर उद्योग मंत्री टेक्सटाइल सेक्टर उनके लिए खास प्राथमिकता होगी। वे केंद्र सरकार में टेक्सटाइल मंत्री भी रह चुके हैं और इस अनुभव का उन्हें यहां खास फायदा मिलेगा. उन्होंने बताया कि कोरोनाकाल में बिहार के सीएम नीतीश कुमार की दूरदर्शिता उनके काफी काम आई, जो भी बाहर के राज्यों में काम करने वाले कामगार यहां लॉकडाउन में बिहार लौटे उनका स्किल मैपिंग नीतीश कुमार ने करा लिया. शाहनवाज के मुताबिक उन्होंने इस रिपोर्ट का गहन अध्ययन किया. सत्तर प्रतिशत तो ऐसे कामगार हैं जो टेक्सटाइल क्षेत्र में काम कर रहे हैं और उन्हें हम यहां रोजगार दे सकते हैं.

बिहारवासी करें निवेश

उद्योग मंत्री ने कहा कि जब बिहार में कुशल कामगार, जमीन और सरकार के सहयोग के साथ ही बिजली भी उपलब्ध है तो उद्योगों की  तरक्की काफी तेजी से की जा सकती है.उन्होंने संपन्न बिहारवासियों से अपने राज्य में वापस आने की अपील की. वहीं निवेशकों को बिहार लाने की बात पर उन्होंने कहा कि इसके लिए उन्हें जहां भी जाना पड़ेगा वो जाएंगे. लोगों को यह डर है कि बिहार में अपराधिक घटनाएं और कई राज्य से काफी अधिक है जबकि नीतीश काल के शासन में यहां महाराष्ट्र से भी कम अपराधिक घटनाएं हुई हैं. अब बिहार केवल कंज्यूमर नहीं बनेगा बल्कि उत्पादक राज्य बनेगा. वे डेयरी उत्पदकों से भी अपील करेंगे कि वो बिहार में अपनी उत्पादन इकाई लगाए.अगर बिहार की बात करें तो यहां की मिट्टी बहुत उपजाऊ है ऐसे में एग्रो बेस्ड इंडस्ट्री की काफी संभावनाएं है. गन्ना जो की यहां काफी प्रचुर मात्रा में होती है ऐसे में यह पूरे देश को इथेनॉल सप्लाई कर सकता है. वहीं हैंडलूम सेक्टर इंडस्ट्री भी युवाओं के सपने को पंख लगाने का काम करेगा .

Find Us on Facebook

Trending News