पार्टी नेतृत्व के फैसले से नाखुश फडणवीस नहीं जाएंगे हैदराबाद की बैठक में, राजद ने कहा - मिल गया पहला अग्निवीर

पार्टी नेतृत्व के फैसले से नाखुश फडणवीस नहीं जाएंगे हैदराबाद की बैठक में, राजद ने कहा - मिल गया पहला अग्निवीर

PATNA : महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के कारण अब तक शिवसेना में ही आग लगी हुई थी। लेकिन अब लगता है कि जिस तरह हैं देवेंद्र फडणवीस से अचानक सीएम का पद छीनकर डिप्टी सीएम बनाया गया। उससे महाराष्ट्र भाजपा में कलह नजर आने लगा है। इसका पहला प्रमाण तब देखने को मिला,  जब उद्धव ठाकरे नीत एमवीए सरकार के गिरने के बाद महाराष्ट्र में सत्ता में वापस आने का जश्न मनाने के उद्देश्य से दक्षिण मुंबई में स्थित पार्टी कार्यालय में कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। लेकिन जश्न समारोह में फडणवीस नहीं पहुंचे। जिसके बाद पार्टी नेताओं में चर्चा शुरू हो गई है। 

हैदराबाद की पार्टी कार्यकारिणी की बैठक से भी दूर

आज से हैदराबाद में भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू हो रही है। बताया जा रहा है कि इस बैठक से भी फडणवीस ने खुद को अलग कर लिया है। हालांकि उन्होंने इसकी वजह विधानसभा सत्र को बताया है, लेकिन पार्टी में इसे दूसरे नजरिए से देखा जा रहा है। कईयों का मानना है कि जिस तरह पार्टी के राष्ट्रीय नेताओं ने फैसला लिया है, उससे फडणवीस नाखुश हैं। चूंकि यह पार्टी का फैसला था, इसलिए उन्हें इसे मानना पड़ा।


देश का पहला अग्निवीर

जिस तरह की घटनाएं महाराष्ट्र में हुई, उसके बाद राजद ने तंज कसा है। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट करके फडणवीस को भारत का पहला 'अग्निवीर' बताया गया। वहीं कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि  सिंघवी ने कहा, "भारतीय राजनीति में हमारे पास एक नया लालकृष्ण आडवाणी है। देवेंद्र फडणवीस प्रतीक्षा में शाश्वत सीएम बने हुए हैं।

बता दें कि वृहस्पतिवार को फडणवीस ने घोषणा की थी कि वह एकनाथ शिंदे नीत सरकार का हिस्सा नहीं होंगे, परंतु बाद में उन्होंने उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। फडणवीस के एक करीबी ने बताया कि वह तीन जुलाई को आयोजित होने वाले महाराष्ट्र विधानसभा के दो दिवसीय विशेष सत्र से पहले अपने आवास पर बैठक करने में व्यस्त थे।

Find Us on Facebook

Trending News