पढ़ाने का अनोखा तरीका: खेल-खेल में बच्चे ले रहा है अक्षर का ज्ञान, लोग कर रहे खुब पसंद

पढ़ाने का अनोखा तरीका: खेल-खेल में बच्चे ले रहा है अक्षर का ज्ञान, लोग कर रहे खुब पसंद

सासाराम. जिले के भेड़िया में राजकीय मध्य विद्यालय की एक शिक्षिका का पहली कक्षा के बच्चों को पढ़ाने का तरीका खुब सुर्खियां बटोर रहा है. पढ़ाने का ये अनोखा अंदाज लोगों को बहुत पसंद आ रहा है. बता दें कि कोरोना काल के दौरान लंबे समय तक स्कूल बंद था. इसके चलते पहली कक्षा के कई बच्चे अक्षर तक भूल गए हैं. ऐसे में शिक्षिका ने बच्चों को असानी से समझाने के लिए एक नया तरीका निकाला, जो सोशल मीडिया पर भी खुब वायरल हो रहा है. 

प्रशिक्षित शिक्षिका नंदनी कुमारी बताती हैं कि उन्होंने यह महसूस किया कि कोरोना काल के बाद स्कूल पहुंचे बच्चों में पढ़ाई को लेकर रुचि घटी है, इसलिए उन्होंने खेलों और सीखो विधि से बच्चों को पढ़ाना शुरू किया. देखा गया कि बच्चे काफी उत्साह के साथ इसमें भाग ले रहे हैं और अक्षर को भी फिर से सीख रहे हैं. क्लास रूम से बाहर गीत के साथ-साथ बच्चे पढ़ाई को पसंद कर रहे हैं.

उन्होंने बताया कि वे मध्य विद्यालय की शिक्षिका हैं, परंतु प्राथमिक विद्यालय के बच्चों को पढ़ाती हैं और शिक्षण के नए-नए प्रयोग करती हैं. कक्षा में लगभग 40 बच्चे हैं, जो पढ़ाई के इस तरीके को बहुत पसंद करते हैं. उन्होंने कहा कि शिक्षा शास़्त्र की पढ़ाई में प्रायोगिक शिक्षा का बच्चों पर प्रयोग करने पर इसका सकारात्मक असर पड़ता हैं. कोरोना काल के बाद जब स्कूल खुले हैं तो बच्चों की संख्या बढ़ी है, इसे बनाए रखने के लिए जरूरी है कि शिक्षा को रोचक बनाया जा सके.

Find Us on Facebook

Trending News