UP NEWS: 37 साल बाद दोहराया जाएगा इतिहास, यूपी विधानसभा को मिलेगा नया डिप्टी स्पीकर, सपा-बीजेपी में के बीच है जंग

UP NEWS: 37 साल बाद दोहराया जाएगा इतिहास, यूपी विधानसभा को मिलेगा नया डिप्टी स्पीकर, सपा-बीजेपी में के बीच है जंग

UP DESK: उत्तर प्रदेश की सियासत इस वक्त काफी हिचकोले खा रही है। नौबत यह आ गई है कि राज्य के सियासी इतिहास में दूसरी बार आज विधानसभा के उपाध्यक्ष पद के लिए वोटिंग की जाएगी। इसके पहले साल 1984 में मतदान के जरिए डिप्टी स्पीकर का चुनाव हुआ था। इस पद के लिए बीजेपी और सपा के बीच रस्सा-कस्सी जारी है। 

बीजेपी ने जहां हरदोई से सपा के बागी विधायक नितिन अग्रवाल को आगे किया है तो सीतापुर कीमहमूदाबाद सीट से सपा विधायक नरेंद्र वर्मा अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। ऐसे में डिप्टी स्पीकर पद के लिए वोटिंग की नौबत आई है। सोमवार को विधानसभा सत्र के दौरान सुबह 11 बजे मतदान शुरू होगा। इसके लिए रविवार को विधान सभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित की अध्यक्षता में हुई सदन की कार्यमंत्रणा समिति की बैठक में इस एक दिवसीय सत्र के कार्यक्रम पर मुहर लगी। विधान सभा अध्यक्ष ने विश्वास जताया कि सदन की कार्यवाही को सुगमतापूर्वक चलाया जा सकेगा। सदन में सारगर्भित और गुणवत्तापूर्ण चर्चा के लिए सभी का सहयोग अपेक्षित है।

विधानसभा अध्यक्ष ने बताया कि सोमवार सुबह 11 बजे सदन में सूचनाएं ली जाएंगी। इसके बाद उपाध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया शुरू होगी। बैठक में नियम-301 व नियम-51 की सूचनाएं ली जाएंगी। नियम-301 के तहत सदस्य अविलंबनीय लोक महत्व के विषय पर सदन का ध्यान आकृष्ट कर सकते हैं। वहीं नियम-51 के तहत वे ऐसा विषय उठा सकते हैं जो औचित्य प्रश्न न हो। विधान सभा सत्र के मद्देनजर सुरक्षा समिति की बैठक भी हुई जिसमें सदस्यों के लिए निर्बाध आवागमन, सुरक्षा, उपचार आदि व्यवस्था कराये जाने पर विचार किया गया। अध्यक्ष ने विश्वास दिलाया है कि उत्तर प्रदेश देश की सबसे बड़ी विधान सभा होने के नाते संविधान के प्रति प्रतिबद्ध, परंपरा, संस्कृति और हर तरह से संविधान के प्रति निष्ठावान होकर सदन की कार्यवाही को सुगमतापूर्वक चलाया जायेगा।

बैठक में संसदीय कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना एवं समाजवादी पार्टी से नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चौधरी, राकेश प्रताप सिंह, बसपा नेता शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली, कांग्रेस दल की नेता आराधना मिश्रा (मोना), सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी से कैलाशनाथ सोनकर, मंत्री रमापति शास्त्री, चौधरी लक्ष्मीनारायण, सिद्धार्थनाथ सिंह, राज्यमंत्री गुलाब देवी, योगेन्द्र उपाध्याय, सहित विधान सभा के प्रमुख सचिव, प्रदीप कुमार दुबे एवं प्रमुख सचिव संसदीय कार्य, जे.पी. सिंह व अन्य अधिकारी भी उपस्थित रहे।

Find Us on Facebook

Trending News