UP NEWS: अभी भी सुलग रहा है लखीमपुर खीरी, प्रियंका गांधी को पुलिस ने हिरासत में लिया, जानिए केंद्रीय मंत्री के बेटे की सफाई

UP NEWS: अभी भी सुलग रहा है लखीमपुर खीरी, प्रियंका गांधी को पुलिस ने हिरासत में लिया, जानिए केंद्रीय मंत्री के बेटे की सफाई

N4N DESK: इन दिनों उत्तर प्रदेश में सब कुछ सही नहीं चल रहा है। खासतौर पर कानून व्यवस्था की बात करें तो वह पूरी तरीके से ध्वस्त हो चुकी है। मनीष नाम के दो व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्या करने का मामला ठंडा भी नहीं पड़ा था कि रविवार को राज्य के लखीमपुर खीरी में हिंसा भड़क गई। वहां अब तक 4 किसान सहित 8 लोगों की मौत हो चुकी है। इस घटना के बाद पूरे देश के निशाने पर उत्तर प्रदेश आ गया है।

क्षेत्र में तनाव, इंटरनेट सेवा बंद, धारा 144 लागू

इलाके में तनाव को देखते हुए जिले में केंद्रीय बलों की पांच और पीएसी की तीन कंपनियां तैनात की गई हैं। एहतियात के तौर पर जिले में इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी गई हैं। वहीं घटनास्थल औऱ उसके आसपास के संवेदनशील इलाकों में एहतियातन धारा 144 लागू कर दी गई है। वहीं, घटना के कारणों की जांच के लिए सरकार ने अफसरों की एक टीम भेज दी है। टीम में अपर मुख्य सचिव (कृषि) देवेश चतुर्वेदी, एडीजी (एलओ) प्रशांत कुमार, लखनऊ के मंडलायुक्त रंजन कुमार और आईजी रेंज लखनऊ लक्ष्मी सिंह शामिल हैं।

प्रियंका गांधी को किया गया नजरबंद

लखीमपुर खीरी में हुई हमसे घटना के बाद कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा घटनास्थल के लिए रवाना हुई थीं। हालांकि उनके जाने की सूचना पर पुलिस प्रशासन हाई अलर्ट मोड पर आ गया। सीतापुर के पास उन्हें पुलिस ने हिरासत में ले लिया। यह घटना सोमवार की सुबह 5:30 बजे हुई और फिलहाल उन्हें गेस्ट हाउस में पुलिस द्वारा नजरबंद कर रखा गया है, जिससे सियासत तेज हो गई है। इसके इतर भारत किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत भी लखीमपुर पहुंच गए हैं और उन्होंने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र और उनके बेटे आशीष मिश्र की गिरफ्तारी की मांग की है।

घटना को लेकर कई बड़े लोगों पर FIR दर्ज

इस मामले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी, उनके बेटे आशीष मिश्रा समेत 9 लोगों के खिलाफ तिकुनिया थाने में हत्या, आपराधिक साजिश, दुर्घटना, बलवा आदि संगीन धाराओं में केस दर्ज किया गया है। यह केस बहराइच के नानपारा के रहने वाले जगजीत सिंह की तहरीर पर लिखा गया है। बता दें कि आरोप लगाया गया है किजिस समय किसान प्रदर्शन करने गए थे, उसी वक्त गाड़ी ने उन्हें रौंद दिया। इस दौरान, चार किसानों की मौत हो गई, जबकि हिंसा में कुल आठ लोगों की जान गई है।

आशीष मिश्रा ने आरोपों को बता झूठा

वहीं केंद्रीय मंत्री के बेटे आशीष ने भी अपने ऊपर लगे आरोपों को झूठा बताया है। उन्होंने कहा कि मैं कार्यक्रम के अंत तक सुबह नौ बजे से बनवारीपुर में था। मेरे खिलाफ आरोप पूरी तरह से निराधार हैं और मैं इस मामले की न्यायिक जांच की मांग करता हूं। दोषियों को सजा मिलनी चाहिए। उन्होंने आगे कहा, ''हमारी 3 गाड़ियां एक कार्यक्रम के लिए उप-मुख्यमंत्री की अगवानी करने गई थीं। रास्ते में कुछ बदमाशों ने पथराव किया, कारों में आग लगा दी और हमारे 3-4 कार्यकर्ताओं को लाठियों से पीटा।

हिसंक घटना के बाद लगेगा सियासी जमावड़ा

घटना के बाद सभी विपक्षी दलों ने बीजेपी पर हमला बोलकर राजनीतिक सरगर्मी बढ़ा दी है। सपा प्रमुख अखिलेश यादव, रालोद प्रमुख जयंत चौधरी, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्र सोमवार को लखीमपुर पहुंचकर किसानों से मिलेंगी। वहीं, किसान नेता राकेश टिकैत और भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर समेत कई किसान नेता लखीमपुर रवाना हो गए हैं।

CM योगी ने की शांति की अपील
 पूरे मामले पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने बयान जारी करके कहा कि क्षेत्र के लोगों के अपील है कि वे घरों में रहें और किसी के बहकावे में न आएं। मौके पर शांति व्यवस्था कायम रखने में योगदान दें। किसी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले मौके पर हो रही जांच और कार्रवाई का इंतजार करें। सरकार इस घटना के कारणों की तह में जाएगी और घटना में शामिल तत्वों को बेनकाब कर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी।

Find Us on Facebook

Trending News