यूपी पुलिस ने फिल्मी स्टाइल में किया आगरा के आतंक का अंत, SSP-SP को भी लगी गोली

यूपी पुलिस ने फिल्मी स्टाइल में किया आगरा के आतंक का अंत, SSP-SP को भी लगी गोली

AGRA :  देश में स्पेशलिस्ट बन चुकी यूपी पुलिस ने एक बार फिर दो इनामी बदमाशों को मुठभेड़ में मार गिराया है। पुलिस ने बताया कि दोनों बदमाश पिछले सप्ताह आगरा में हुए सीनियर डॉक्टर उमाकांत गुप्ता की किडनैपिंग के मामले में मुख्य आरोपी थे. पुलिस ने बताया कि मुठभेड़ में मारे गए एक बदमाश का नाम बदन सिंह था, जिस पर एक लाख का इनाम भी घोषित था। 

पूरी फिल्मी है पुलिस की कहानी

इस एनकाउंटर को लेकर एसएसपी ने जो कहानी बताई है, वह पूरी तरह से फिल्मी लगती है। एसएसपी ने बताया कि पुलिस जगनेर थाना क्षेत्र के कठपुरा इलाके में चेकिंग कर रही थी। इसी दौरान डॉक्टर की किडनैपिंग मामले में फरार चल रहे एक लाख के इनामी बदमाश बदन सिंह और उसका साथी अक्षय सिंह वहां बाइक से पहुंचे। पुलिस चेकिंग को देखकर वह तेजी से बाइक भगाने लगे। मौके पर तैनात पुलिस ने कंट्रोल रूम को इसकी सूचना दी। SSP मुनिराज, SP ग्रामीण सत्यजीत गुप्ता, SOG और स्वाट की टीमें तुरंत अलर्ट हो गईं। सभी बदमाशों के पीछे लग गईं।

जंगल में घुसे दोनों बदमाश

पुलिस के अनुसार चारों तरफ से घिरते देख बदन सिंह ने अपनी बाइक कछपुरा के जंगल की तरफ मोड़ दी। आगे उनकी बाइक फिसल गई। इस दौरान बचने की कोशिश में दोनों फायरिंग शुरू कर दी। वहीं पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई में गोलियां चलानी शुरू कर दीं। वहीं पुलिस की जवाबी फायरिंग में पहले एक बदमाश को गोली लगी, जबकि एक आगे की तरफ भाग निकला। घायल बदमाश को पुलिस अस्पताल ले गई जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। दूसरी तरफ पुलिस की बाकी टीमें दूसरे बदमाश का पीछा करने लगी। कुछ दूरी पर उसने भी पुलिस पर फायरिंग कर दी और जवाबी फायरिंग में वह भी मारा गया।

SSP और SP को लगी गोली 

पुलिस की यह मुठभेड़ दो घंटे तक चली। इस दौरान जहां दोनों बदमाश पुलिस की गोली का शिकार हो गए. इस दौरान बदमाशों की गोली कार्रवाई का नेतृत्व कर रहे SSP मुनिराज और SP वेस्ट सत्यजीत गुप्ता को भी लगी। हालांकि दोनों ने बुलेट प्रुफ जैकेट पहन रखा था, जिसके कारण उन्हें कोई नुकसान नहीं हुआ  है। हालांकि इस दौरान दो पुलिसकर्मी घायल हो गए।   

आगरा का आतंक था बदन सिंह

बताया गया कि मारे गए बदन सिंह आगरा में काफी आतंक था। बदन सिंह डॉक्टर अपहरण कांड से पहले भी तीन अपहरण की वारदातों को अंजाम दे चुका था। डॉक्टर उमाकांत के अपहरण के बाद वो पांच करोड़ की फिरौती मांगने वाला था। लेकिन पुलिस ने पहले ही डॉक्टर को मुक्त करा लिया था। उसके खिलाफ एक लाख का इनाम घोषित था। बदन सिंह पर एडीजी राजीव कृष्ण द्वारा एक लाख का इनाम घोषित किया गया था।

Find Us on Facebook

Trending News