काराकाट से चुनाव लड़ने को लेकर दुविधा में कुशवाहा, बिहार के इस लोकसभा सीट की जनता का भांप रहे मूड

काराकाट से चुनाव लड़ने को लेकर दुविधा में कुशवाहा, बिहार के इस लोकसभा सीट की जनता का भांप रहे मूड

PATNA : आरएलएसपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा के काराकाट लोकसभा सीट से दूबारा चुनाव लडने को लेकर संशय बरकरार है। कुशवाहा की नजर काराकाट के साथ-साथ उजियारपुर संसदीय सीट पर भी है। जानकारों की मानें तो वे काराकाट की बजाए उजियारपुर से चुनाव लड़ने का मन बना रहे हैं। इसको लेकर वे कई दिनों से उजियारपुर संसदीय क्षेत्र के लोगों का मूड भांपने में जुटे हैं।

कुशवाहा ने मूड़ भांपने के लिए अपने खास को लगाया

जानकारों की मानें तो उपेन्द्र कुशवाहा उजियारपुर संसदीय क्षेत्र के मतदाताओं का मूड़ भांपनें में जुटे हैं। इस काम के लिए उन्होनें अपने सबसे खास को लगाया है। बताया जाता है कि कई दिनों से वहां के लोगों से  संपर्क स्थापित किया जा रहा है।यह पता करने की कोशिश की जा रही है कि अगर उपेन्द्र कुशवाहा उजियारपुर क्षेत्र से चुनाव लड़ते हैं तो यादव वोटर उनके पक्ष मे वोट करेंगे या नही? इसको लेकर कुशवाहा खेमे में माथापच्ची जारी है।

यादव वोटरों की चिंता मे डूबे कुशवाहा

दरअसल कुशवाहा की चिंता इस बात को लेकर है कि अगर वे उजियारपुर सीट से लडते हैं तो यादव वोटर क्या करेंगे। चूंकि उजियारपुर संसदीय क्षेत्र से बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष  नित्यानंद राय का एक बार फिर से चुनावी मैदान में उतरना तय माना जा रहा है। वे इसी समुदाय से आते हैं,ऐसे में यादव समुदाय अगर महागठबंधन के प्रत्याशी को छोड़ अगर अपने समाज के प्रत्याशी  नित्यानंद राय के पक्ष में वोटिंग कर देता है तो फिर क्या होगा। इसको लेकर उपेन्द्र कुशवाहा सभी तरह के गुणा-भाग  करने में जुटे हैं।

2014 में काराकाट से चुनाव जीते ते कुशवाहा

उपेन्द्र कुशवाहा 2014 में काराकाट लोकसभा क्षेत्र से चुनाव जीते थे। लेकिन इस बार वहां कुशवाहा के लिए मुश्किल हो गया है।उपेन्द्र कुशवाहा खेमे से एक-एक कर अधिकांश कुशवाहा नेता पार्टी को छोड़ चुके हैं।पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणि,भगवान सिंह कुशवाहा सरीखे नेता कुशवाहा को डैमेज करनें मे जुटे हैं। बताया जाता है कि इन दोनों नेताओं की उस क्षेत्र मे अच्छी पकड़ है। आरएलएसपी के एनडीए छोडने के बाद काराकाट सीट जदयू के खाते मे जा सकती है।ऐसे में जदयू उक्त सीट पर कुशवाहा समाज के उम्मीदवार को मैदान मे उतार सकती है। 

बताया जाता है कि महागठबंधन मे समझौते के बाद आरएलएसपी के खाते में काराकाट के साथ-साथ उजियारपुर लोकसभा सीट भी गई है।इसीलिए कुशवाहा दोनों में से किसी एक सीट पर चुनाव लड़ने का मन बना रहे हैं।


Find Us on Facebook

Trending News