शिक्षकों के पक्ष में उतरे उपेंद्र कुशवाहा, NIOS से डीएलएड की डिग्री की मान्यता नहीं मिलने पर उठाया सवाल

शिक्षकों के पक्ष में उतरे उपेंद्र कुशवाहा, NIOS से डीएलएड की डिग्री की मान्यता नहीं मिलने पर उठाया सवाल

PATNA: एनआईओएस से डीएलएड की डिग्री को बिहार में शिक्षक नियोजन में मान्यता नहीं मिलने को रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने नाराजगी जाहिर की है। पटना में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि वे इस संबंध में भारत सरकार के शिक्षा मंत्री से मुलाकात करके उनसे इस मामले में हस्तक्षेप की मांग करेंगे।

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि इस मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और शिक्षा मंत्री को संज्ञान लेना चाहिए अगर कोई गलत निर्णय किसी कारण हो जाता है जो लोगों के हित के खिलाफ है तो इस पर आपत्ति दर्ज की जानी चाहिए।  उन्होंने कहा कि भारत सरकार के शिक्षा मंत्री से मुलाकात कर कहूंगा कि बिहार में शिक्षक आंदोलित हैं जिन्होंने पहले से ट्रेनिंग ले ली है लेकिन उन्हें मान्यता नहीं दी जा रही है।

उन्होंने कहा कि एनसीटीई भारत सरकार की संस्था है। उसके अनुसार जो अनट्रेंड लोग हैं उनको बहाल नहीं करना है। इसके लिए व्यवस्था बनाई गई की पहले से कार्यरत शिक्षकों को या तो ट्रेनिंग दी जाए या इनको बाहर कर दिया जाए। फैसला हुआ था कि 31 मार्च 2019 तक जो लोग ट्रेनिंग कर लेंगे उनकी सेवा समाप्त नहीं की जाएगी। एनआईओएस की ओर से यह व्यवस्था की गई थी कि नौकरी में रहते हुए ट्रेनिंग की व्यवस्था हो सके।

कुशवाहा ने कहा कि इस मामले को लेकर वे भारत सरकार के शिक्षा मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री से मुलाकात कर हस्तक्षेप की मांग करेंगे। सरकार का यह कदम शिक्षा और नौजवानों के खिलाफ है। अगर ऐसा नहीं होता है तो राष्ट्रीय लोक समता पार्टी उनकी मांगों को लेकर सड़क पर उतरेगी।

Find Us on Facebook

Trending News