बिहार में 82 पुरुषों का निकाल लिया गर्भाशय, चौंकिये मत... यह एक घोटाला है, पटना हाई कोर्ट में 18 अगस्त को अहम सुनवाई

बिहार में 82 पुरुषों का निकाल लिया गर्भाशय, चौंकिये मत... यह एक घोटाला है, पटना हाई कोर्ट में 18 अगस्त को अहम सुनवाई

पटना. बिहार के गर्भाशय घोटाले के मामले पर सुनवाई अब पटना हाईकोर्ट में 18 अगस्त 2022 को होगी। जस्टिस अश्वनी कुमार सिंह की खंडपीठ वेटरन फोरम की जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही है। पिछली सुनवाई में कोर्ट ने इस जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए सीबीआई को चार सप्ताह में बताने को कहा था कि इस मामलें को जांच के लिए क्यों नहीं सीबीआई सौंपा जाए। 

आज महाधिवक्ता ललित किशोर ने स्वयम उपस्थित होकर कोर्ट से कुछ समय माँगा, जिसे कोर्ट ने मान लिया। कोर्ट ने पिछली सुनवाई में जानना चाहा था कि कि इस तरह की अमानवीय घटना के मामलें में राज्य सरकार ने क्या किया।राज्य सरकार को इस मामलें ज्यादा संवेदनशीलता दिखानी चाहिए थी। 

याचिकाकर्ता के अधिवक्ता दीनू कुमार ने बताया था कि सबसे पहले ये मामला मानवाधिकार आयोग के समक्ष 2012 में लाया गया था। 2017 में पटना हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका वेटरन फोरम ने दायर किया गया था। इसमें ये आरोप लगाया गया था कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना का गलत लाभ उठाने के लिए बिहार के विभिन्न अस्पतालों/डॉक्टरों द्वारा बड़ी तादाद में बगैर महिलाओं की सहमति के ऑपरेशन कर गर्भाशय निकाल लिए गए।


अधिवक्ता दीनू कुमार ने बताया कि पीड़ित महिलाओं की संख्या लगभग 46 हज़ार होने की सम्भावना है। बीमा राशि लेने के चक्कर में 82 पुरुषों का भी आपरेशन कर दिया गया। इस मामलें पर अगली सुनवाई 18अगस्त,2022 को की जाएगी।


Find Us on Facebook

Trending News